अयोध्‍या के सीता-राम मंदिर में होती है इफ्तार पार्टी

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज़ डेस्क। ऐसे में जबकि समाज में जाति-धर्म के नाम पर वैमन्‍य फैलाया जाता है, राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्‍या में लोगों ने सांप्रदायिक सौहार्द की अनूठी मिसाल पेश की है। यहां श्री सीता राम मंदिर में रमजान के महीने में इफ्तार का आयोजन किया जाता है तो नमाज भी पढ़ी जाती है। लोग बेहद उत्‍साह से इसमें भागीदारी करते हैं, जो जातिगत व सांप्रदायिक बातें करने वालों के लिए बड़ा सबक है।

मंदिर के पुजारी युगल किशोर ने बताया कि उन्‍होंने तीसरी बार यहां इफ्तार का आयोजन किया है, जिसे वे भविष्‍य में भी जारी रखेंगे। उन्‍होंने यह भी कहा, ‘हम सबको हर त्‍यौहार बेहद उत्‍साह से मनाना चाहिए।’ यह उत्‍साह यहां सभी धर्मों व समुदाय के लोगों में देखने को मिलता है। रमजान के दौरान जहां हिन्‍दू समुदाय के लोग अपने मुस्लिम भाइयों के लिए खास इंतजाम करते हैं, वहीं यहां के मुसलमान भी इसमें पीछे नहीं रहते। वे नवरात्रि के समय अपने हिन्‍दू भाइयों के साथ उतनी ही श्रद्धा से व्रत रखते हैं।

श्री सीता राम मंदिर में आयोजित इफ्तार के लिए पहुंचे मुजामिल फिजा कहते हैं, यहां मुस्लिम समाज के कई लोग नवरात्र का व्रत रखते हैं। वह खुद भी ऐसे लोगों में शामिल हैं और हर साल अपने हिन्‍दू भाइयों के साथ इस त्‍योहार को सेलिब्रेट करते हैं। दो समुदाय के बीच खाई पैदा करने वाली ताकतों के संबंध में वह कहते हैं, ‘कुछ लोगों का अपना एजेंडा होता है और इसलिए वे नहीं चाहते कि विभिन्‍न समुदायों के लोग आपस में मिलकर रहें और इस तरह का आयोजन करें।’

मंदिर के पुजारी युगल किशोर की तारीफ करते हुए उन्‍होंने कहा, ‘ऐसे समय में जबकि देश में धर्म के नाम पर राजनीति हो रही है, (युगल) किशोर जैसे लोग प्‍यार का पैगाम देते हैं।’

Tag In

अयोध्‍या रमजान श्री सीता राम मंदिर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *