आखिर क्यों मनाया जाता है फादर्स डे, जानिये इसके पीछे की कहानी

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज़, मोनिका सोनी। “जेब खाली हो पर फिर भी मना नहीं करते देखा, मैंने पिता से ज़्यादा अमीर इंसान नहीं देखा” यह लाइन स्वयं ही पिता के बारे में सबकुछ व्यक्त कर देती हैं। पिता एक ऐसे इंसान हैं जो अपने बच्चों की ख़ुशी के लिए हर मुमकिन कोशिश करता है। एक पिता के ही त्याग को याद में रखने के लिए पूरी दुनिया में फादर्स डे मनाया जाता है। माना जाता है कि फादर्स डे की शुरुआत सबसे पहले 19 जून 1910 को वाशिंगटन में हुई थी और इस फादर्स डे की शुरुआत करी थी वाशिंगटन में रहने वाली सोनेरा डोड ने और साल 2019 में फादर्स डे को 109 साल पुरे हो जायेंगे। फादर्स डे की कहानी भी बड़ी रोचक है। तो आईये जानते हैं फादर्स डे मनाने के पीछे की कहानी।

सोनेरा डोड जब छोटी थी तभी उनकी माँ का देहांत हो गया था। उनकी माँ के देहांत होने के बाद उनके पापा ने ही उनकी बड़ी प्यार से परवरिश करी थी। सोनेरा डोड की परवरिश में उनके पापा कभी कोई कसर नहीं छोड़ते थे और ना ही सोनेरा डोड के पापा ने उनको कभी उनकी माँ की कमी महसूस होने दी। पापा के इतने प्यार और कोशिशों को ध्यान में रखकर सोनेरा डोड ने पापा के नाम एक फादर्स डे मनाने का फैसला लिया और 19 जून 1910 को अपने पापा के लिए पहली बार फादर्स डे मनाया।

1924 में अमेरिकी राष्ट्रपति कैल्विन कोली ने फादर्स डे पर अपनी सहमति दे दी उसके बाद 1966 में राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाने की आधिकारिक घोषणा की। 1972 में अमेरिका में फादर्स डे पर स्थायी अवकाश घोषित करने का फैसला लिया। मग़र फि‍लहाल पूरे विश्व में जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाया जाता है।

Tag In

#father's_day #june_third_sunday #sunday #third_sunday #फादर्स डे #रविवार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *