आतंकवाद के खिलाफ सहयोग को संस्थागत करने की जरुरत: पीएम मोदी

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। सोमवार को 74 वे संयुक्त राष्ट्र सभा से इतर ‘लीडर्स डायलॉग ऑन स्ट्रेटेजिक रेस्पोंसेस टू टेर्ररिस्ट एंड वॉयलेंट एक्सट्रिमिस्ट नैरेटिव्ज़ :आतंकवाद और हिंसक विमर्श पर राजनीतिक प्रतिक्रिया से संबंधित वार्ता में पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवादियों को किसी भी तरह के धन और हथियार नहीं मिलने देने चाहिए। इस मकसद को पूरा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र लिस्टिंग और फायनांशियल एक्शन टास्क फाॅर्स जैसे मशीनिकरण की राजनीतिकरण से बचना चाहिए। पीएम मोदी ने चीन के बारे में अप्रत्यक्ष रूप से यह बात कही।

साथ ही अपने संबोधन में उन्होंने बहुपक्षीय स्तर पर आतंकवाद के खिलाफ सहयोग को संस्थागत रूप देने को कहा और भारत मित्र देशों को क्षमता निर्माण और पहले से जारी सहयोग बढ़ाने के लिए काम करेगा। अपने संबोधन में पीएम ने कहा की दुनिया में कोई भी आतंकवादी घटना को छोटी या बड़ी या अच्छी या बुरी नहीं मानना चाहिए उसे सिर्फ एक आतंकवाद घटना के तौर पार देखना चाहिए।

लोकतांत्रिक मूल्य, विविधता और समावेश आतंकवाद, अतिवाद, कट्टरपंथ के खिलाफ लड़ने के हथियार हैं। उन्होने कहा जैसे दुनियाँ ने जलवायु परिवर्तन के खिलाफ एकजुटता दिखाई है उसी तरह आतंकवाद के खिलाफ भी एकजुटता दिखाने की जरुरत है। आतंकवाद और हिंसा को बढ़ावा देने वाली सामग्री को ख़त्म करने पर भी वार्ता में चर्चा हुई। भारत ने भी क्राइस्ट चर्च कॉल को घृणा, आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली सामग्री को स्पेस मुक्त करने के लिए समर्थन दिया।

Tag In

#pmnarendramodi #UN #UnitedNationsAssembly

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *