bjp-aap

आतिशी ने एक बार फिर लगाया गौतम पर गंभीर आरोप, इस बार गौतम ने गंभीरता दिखाते हुए कर दिया मानहानि का केस, खबर में पढ़िए क्या है पूरा मामला

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज। देवेन्द्र कुमार। लोकसभा चुनावों में नेताओं द्वारा एक-दूसरे पर लगाए जा रहे आरोपों का दौर जारी है। लगता है आरोपों का यह दौर अंतिम चरण के चुनाव तक थमने का नाम नहीं लेगा। इस बार के चुनाव को देखकर तो यह लगता है कि अब चुनाव जनहित के मुद्दों पर नहीं बल्कि एक दूजे प्रत्याशी पर आरोप-प्रत्यारोप लगाकर लड़े जाएंगे। इस बार के चुनाव में जनता के मुद्दे गायब हैं हर कोई नेता अपनी छवि अच्छी और दूसरे नेता की छवि को बुरा बताकर चुनाव जीतने की भरसक कोशिश कर रहे हैं। आरोपों के इस दौर में अब दिल्ली से खबर आई है कि ईस्ट दिल्ली लोकसभा सीट से आप पार्टी की उम्मीदवार आतिशी ने बीजेपी प्रत्याशी गौतम गंभीर पर आरोप लगाया हैं। आतिशी ने हाल ही में गौतम पर एक ओर आरोप लगाया था जिसमें आतिशी ने कहा था कि गौतम ने दो अलग-अलग जगहों से वोटर कार्ड बनवा रखे हैं। बता दें की गौतम इस आरोप को लेकर गंभीर नजर नहीं आए थे। लेकिन इस बार के आरोप पर गौतम इतने गंभीर नजर आ रहे हैं कि उन्होंने मानहानि का केस तक कर दिया और राजनीति में रहने और न रहने की चुनौती ले ली और आरोप लगाने वालों को चुनौती दे भी डाली।

यह है पूरा मामला

दिल्ली में चुनाव से महज 2 दिन पहले ईस्ट दिल्ली से आप पार्टी की उम्मीदवार आतिशी ने इसी सीट से बीजेपी के उम्मीदवार गौतम गंभीर पर आरोप लगाया है कि गौतम ने मेरे खिलाफ ‘अश्लील और अपमानजनक पर्चे’ बंटवाए हैं। आतिशी ने गुरूवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि बीजेपी उम्मीदवार ओछी राजनीति पर उतर आएं हैं। आतिशी प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह बताते हुए भावुक हो गई की किस तरह से उसके खिलाफ ‘अश्लील और अपमानजनक पर्चे’ बंटवाए गए। आतिशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि बड़े दुख की बात है कि बीजेपी सत्ता के लालच में इतने निम्न स्तर तक गिर गई है। आतिशी ने आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्वी दिल्ली के अलग-अलग अपार्टमेंट, विवेक विहार, कृष्णा विहार में बीजेपी व गौतम ने ये पर्चे बंटवाए हैं। इस दौरान दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे। आतिशी ने इस बात का दावा किया है कि ये पर्चे अखबारों के जरिए बंटवाए गए हैं। आतिशी ने कहा कि भाजपा व उसके लोगों ने मेरे चरित्र पर गंदे-गंदे आरोप लगाए हैं। मेरे परिवार के लिए अपशब्द कहे हैं। साथ ही उन्होंने गौतम से सवाल करते हुए कहा कि जब आप चुनाव जीतने के लिए अपनी प्रतिद्वंदी महिला उम्मीदवार पर इस तरह के पर्चे बंटवा सकते हैं, तो चुनाव जीतने के बाद महिलाओं की सुरक्षा के लिए क्या करेंगे? वहीं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मामले को गंभीर बताते हुए कहा कि ये जो बीजेपी वालों ने इस प्रकार की घटिया राजनीति की है वो लोकतंत्र को शर्मसार करने वाली घटना है। सिसोदिया ने कहा कि जब आपको हार दिखाई दे रही है तो आप एक महिला के खिलाफ इतने घटिया स्तर की राजनीति करने लगे हो। सिसोदिया ने पीएम मोदी और गौतम गंभीर से सवाल पूछते हुए कहा कि इस तरह की घटिया स्तर की राजनीति करके आप चुनाव जीतना चाहते हैं? दिल्ली की जनता आपको 12 मई को इसका जवाब देगी। इसके अलावा सिसोदिया ने कहा कि गौतम गंभीर जब देश के लिए खेलते थे तो हम उनके लिए तालियां बजाते थे। इस तरह की राजनीति की जाएगी, ऐसी उम्मीद उनसे नहीं थी।

गौतम ने आप नेताओं पर दर्ज कराया मानहानि का केस, और दे डाली चुनौती

आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार आतिशी ने जब बीजेपी के गौतम पर इस तरह का गंभीर आरोप लगाया तो गौतम ने भी इस मामले में गंभीरता दिखाते हुए कहा कि आप पार्टी चुनाव जीतने के लिए इस तरह की ओछी हरकत कर रही है। गौतम ने आतिशी और अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी है कि वो इन आरोपों को साबित करके दिखाए। इतना ही नहीं गौतम ने आतिशी, मनीष सिसोदिया और अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला भी दर्ज कराया है। भाजपा उम्मीदवार गौतम ने लीगल नोटिस भेजकर अपने खिलाफ दिए बयानों को वापस लेने और माफी मांगने या फिर मानहानि केस का सामना करने को कहा है।

गौतम गंभीर ने आतिशी की ओर से लगाए गए आरोप का जवाब देते हुए पलटवार भी किया है। गौतम ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चुनौती देते हुए कहा कि अगर मुझ पर लगे आरोप सही साबित हुए, तो मैं चुनाव से तुरंत हट जाऊंगा या इस्तीफा दे दूंगा, लेकिन आरोप साबित नहीं हुए, तो क्या आप हमेशा के लिए राजनीति छोड़ेंगे? गंभीर ने पूछा- क्या उन्हें चुनौती मंजूर है?

बीजेपी ने लगाए आप पार्टी पर आरोप, कहा पर्चे हमनें नहीं आपने खुद बंटवाएं हैं

भाजपा के नेताओं ने अपने ऊपर लगे आरोपों को ओछी राजनीति का नया उदाहरण बताते हुए आरोप लगाया है कि आम आदमी पार्टी के लोगों ने खुद ही इस तरह के आपत्तिजनक पर्चे छपवाकर बंटवाए हैं। गंभीर ने ट्वीट ट्वीट के माध्यम से कहा,  ‘अरविंद केजरीवाल, आपने एक महिला को अपमानित करने का बेहद घृणित कृत्य किया है। वह भी उसे, जो आप ही की साथी है। और ये सब किसलिए? सिर्फ चुनाव जीतने के लिए?’ एक अन्य ट्वीट में गंभीर ने लिखा, ‘अरविंद केजरीवाल और आतिशी, आप दोनों को मेरी चुनौती है। मैं घोषित करता हूं कि अगर यह साबित होता है कि ये सब मैंने किया है, तो मैं अभी अपनी उम्मीदवारी वापस ले लूंगा। लेकिन अगर ये साबित नहीं हुआ, तो क्या आप राजनीति छोड़ोगे?’ बाद में गौतम ने एक बयान जारी कर कहा कि आतिशी को लेकर गंदे पर्चे जारी करने का जो खेल खेला गया है, यह उन्हीं लोगों के लिए आत्मघाती साबित होगा। कहा- मेरे परिवार में 5 महिलाएं हैं। कभी ऐसी ओछी राजनीति नहीं करूंगा। आम आदमी पार्टी ऐसे ट्रिक्स खेलने की आदी है, इस बार मैं इनको बचकर नहीं जाने दूंगा। केजरीवाल और उनकी पार्टी को अदालत में जवाब देना होगा।’

‘जिसके लिए पर्चे छपे, सिर्फ उन्हीं को मिले’

गंभीर ने कहा कि यह बड़ी अजीब बात है कि पर्चे आम आदमी पार्टी को लेकर छपते हैं और केवल उनको ही मिलते हैं और वे ही उन्हें मीडिया को बांटते हैं। बीजेपी नेता राजीव बब्बर ने कहा कि चुनावों से पहले विरोधियों पर ऐसे आरोप लगाने का आम आदमी पार्टी का शुरू से चरित्र रहा है। सवाल यह है कि आप नेताओं की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले किसी को न तो वे पर्चे मिले और ना सोशल मीडिया पर किसी ने उन्हें शेयर किया।

 

चुनाव आयोग ने दिए मामले की जांच के आदेश

मामला सामने आने के बाद चुनाव आयोग ने इस पर संज्ञान लेते हुए लक्ष्मी नगर थाने के एसएचओ को निर्देश दिए हैं कि वह इस मामले की जांच करें और भारतीय चुनाव आयोग के निर्देशों के मुताबिक जरूरी कदम उठाएं। ईस्ट दिल्ली के डिस्ट्रिक्ट मैजिस्ट्रेट और जिला चुनाव अधिकारी ने विवादित पर्चे की वॉट्सऐप पर सर्कुलेट की जा रही कॉपी संबंधित पुलिस अधिकारी को भिजवाते हुए यह आदेश जारी किया है।

दिल्ली पुलिस को नोटिस भेजकर दिल्ली महिला आयोग ने मांगा जवाब

इस मामले को दिल्ली महिला आयोग ने भी गंभीरता से लिया और दिल्ली पुलिस को इसके लिए नोटिस दिया है। महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस से पूछा है कि इस मामले में उसने क्या ऐक्शन लिया गया है। आयोग की चीफ स्वाति जयहिंद ने ईस्ट दिल्ली के डीसीपी को नोटिस भेजकर पूछा है कि हमें मीडिया से जनकारी मिली है कि आतिशी के खिलाफ आपत्तिजनक पैम्फलेट बांटे गए हैं, क्या इस मामले में उसने एफआईआर दर्ज की है। स्वाति ने नोटिस में यह भी लिखा है कि यदि इस मामले में अभी तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है तो इसकी वजह क्या है? क्या दोषी की पहचान हुई है या वो पकड़ा गया है? आयोग ने पूछा है कि पुलिस ने अब तक क्या कदम उठाए हैं और मामले का स्टेटस अभी क्या है? आयोग ने सभी सवालों का जवाब 11 मई दोपहर 12 बजे तक देने को कहा है। आयोग ने इस तरह के पर्चे बंटने के मामले को महिला कैंडिडेट की मर्यादा पर हमला बताया है। आयोग ने माना है कि यह पर्चे शर्मनाक, अपमानजनक और महिला विरोधी है। आतिशी के साथ डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया की मां के खिलाफ भी शर्मनाक और आपत्तिजनक बातें लिखी हैं।

इससे पहले भी आतिशी ने लगाया था गौतम पर आरोप

इससे पहले आप पार्टी की प्रत्याशी आतिशी ने बीजेपी प्रत्याशी गौतम पर गंभीर आतिशबाजी करते हुए यह दावा किया था कि पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी गौतम गंभीर का नाम मतदाता सूची में दो बार दर्ज है। आम आदमी पार्टी ने गौतम के खिलाफ इस मामले में तीस हजारी अदालत में आपराधिक शिकायत दर्ज करवाई थी। आप प्रत्याशी आतिशी का कहा था कि यह एक आपराधिक मामला है और इस मामले में गंभीरता दिखाते हुए तुरंत प्रभाव से गंभीर को अयोग्य करार दिया जाना चाहिए। बता दें की गंभीर ने इस मामले को हल्के में लिया था और गौतम इस मामले में गंभीर नहीं थे। लेकिन इस बार के मामले में गौतम काफी गंभीर नजर आ रहे हैं।

आपको बता दें कि पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने 22 मार्च को भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ली थी। केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली व रविशंकर प्रसाद ने गौतम को पार्टी की सदस्यता दिलाई थी। पूर्व क्रिकेटर गंभीर ने भाजपा में शामिल होने का कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारे से प्रभावित होना बताया था। बीजेपी ने पूर्वी दिल्ली लोकसभा से बीजेपी प्रत्याशी के रूप में पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर को आम आदमी पार्टी की आतिशी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारा है।

Tag In

#aap #arvindkejriwal #BJP #CM #election #election 2019 #gautamGambhir #gautamlepannga

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *