ChowkidarNarendraModi

आप चौकीदार है तो बताइए मेरा बेटा कहां है? लापता छात्र की मां का सवाल

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, प्रीति दादूपंथी। गत रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट का नाम बदलकर ‘चौकीदार नरेंद्र मोदी’ कर दिया है। इसके बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह सहित तमाम दिग्गज नेताओं ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर अपने नाम के आगे ‘चौकीदार’ शब्द जोड़ लिया है। इस दौरान करीब 2 साल से जेएनयू के लापता छात्र की मां ने पीएम मोदी से सवाल कर अपने बेटे के बारे में जानकारी जाननी चाही है।

ट्विटर पर किया सवाल

नजीब की मां फ़ातिमा नफ़ीस ने प्रधानमंत्री के ट्वीट पर ट्विटर पर सवाल किया है कि, ‘अगर आप चौकीदार है तो बताइए मेरा बेटा नजीब कहां हैं? एबीवीपी के गुंडे क्यों नहीं गिरफ़्तार किए गए? क्यों तीन बड़ी एजेंसियां मेरे बेटे को खोजने में असफल रहीं?’ इससे पूर्व प्रधानमंत्री ने अपने ट्विटर अकाउंट के नाम में ‘चौकीदार’ शब्द जोड़ते हुए लिखा था, ‘आपका चौकीदार दृढ़ खड़ा है और देश की सेवा कर रहा है। लेकिन मैं अकेले नहीं हूं, जो भी भ्रष्टाचार, गंदगी और सामाजिक बुराइयों के ख़िलाफ़ लड़ रहा है, वो चौकीदार है। जो भी भारत की तरक्की के लिए कठिन परिश्रम कर रहा है, वो चौकीदार है। आज हर भारतीय कह रहा है #MainBhiChowkidar.’

यह है मामला

गौरतलब है कि नजीब जेएनयू के माही मांडवी छात्रावास से 15 अक्टूबर 2016 को लापता हो गया था। घटना से एक रात पहले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े कुछ छात्रों के साथ उसका कथित तौर पर विवाद हुआ था। इसे लेकर जेएनयू सहित दिल्ली के कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन हुए और जांच की मांग की गई। इसके बाद यह मामला सीबीआई के पास गया। लेकिन देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई भी नजीब को नहीं ढूंढ पाई है।

हाईकोर्ट ने याचिका की थी खारिज

बीते साल आठ अक्टूबर को दिल्ली हाईकोर्ट ने जेएनयू छात्र नजीब के गुमशुदगी मामले में सीबीआई को क्लोज़र रिपोर्ट सौंपने की अनुमति दे दी थी। कोर्ट ने नजीब की मां फ़ातिमा नफ़ीस द्वारा दायर किए गए इस मामले में याचिका को ख़त्म कर दिया। हाईकोर्ट की पीठ ने कहा था कि नजीब की मां निचली अदालत में अपनी बात रख सकती हैं, जहां रिपोर्ट दायर की गई है। फ़ातिमा नफ़ीस ने हाईकोर्ट में अर्ज़ी देकर अनुरोध किया था कि उनके बेटे का पता लगाने के लिए अदालत पुलिस को निर्देश दे।

गौरतलब है कि गत साल सितंबर महीने में सीबीआई ने दिल्ली हाईकोर्ट को बताया था कि अब तक उसकी जांच में ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो दिखाए कि कोई अपराध हुआ है। न ही उसे ऐसी कोई सामग्री मिली है जिसके आधार पर वह उन 9 छात्रों को गिरफ्तार करें या कोई कार्रवाई करें। जिन पर नजीब के परिवार को शक है कि उन्होंने ही उसे गायब किया है। इसके साथ ही केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने हाईकोर्ट को बताया था कि वह नजीब अहमद के गायब होने के मामले की जांच बंद कर सकता है क्योंकि उसे इस मामले में कोई सबूत हाथ नहीं लगा है। इसलिए मामले में क्लोज़र रिपोर्ट दाख़िल कर सकते है।

Tag In

#chowkidar lok-sabha loksabha loksabha election loksabha session loksabha-2019 modi PM Modi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *