इन मंत्रों के जाप से जीवन होगा स्वास्थ्य और धन के साथ ऐश्वर्य से

इन मंत्रों के जाप से जीवन होगा स्वास्थ्य और धन के साथ ऐश्वर्य से भरपूर

धर्म,

ले पंगा न्यूज डेस्क अशोक योगी। नवरात्रि में सब मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए पूजा-पाठ और उपवास करते है। बताया जाता है कि नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा स्वर्गलोक से आकर पृथ्वीलोक में वास करती हैं। इस दौरान वह अपने भक्तों पर अपनी कृपा और आशीर्वाद देती हैं। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशी का पाठ किया जाता है। दुर्गा सप्तशी में देवी के कई सिद्ध मंत्र बताए गए हैं। इन मंत्रों के जप से हर मनोकामना पूरी होती है।

धन प्राप्ति के साथ संतान सुख भी पाना चाहते हैं तो नियमित इस मंत्र का जप करें- सर्वाबाधा वि निर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः। मनुष्यो मत्प्रसादेन भवष्यति न संशय॥

अगर आप इन दिनों धन संबंधी परेशानियों से बुरी तरह परेशान हैं तो पैसों की तंगी को दूर करने के लिए नियमित माता के इस सिद्धि मंत्र का जप करें। दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः। सवर्स्धः स्मृता मतिमतीव शुभाम् ददासि।।

इन दिनों आपका बुरा समय चल रहा है और बार-बार संकट में फंस जा रहे हैं तो देवी के इस मंत्र का जप करें- शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे। सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते।।

स्वास्थ्य और धन के साथ ऐश्वर्य से भरपूर जीवन पाना चाहते हैं तो देवी के इस सिद्ध मंत्र का जप करें- ऐश्वर्य यत्प्रसादेन सौभाग्य-आरोग्य सम्पदः। शत्रु हानि परो मोक्षः स्तुयते सान किं जनै।।

मृत्यु के भय को दूर करने और मोक्ष प्राप्ति के लिए नियमित देवी के इस मंत्र का जप करें- सर्वस्य बुद्धिरुपेण जनस्य हृदि संस्थिते। स्वर्गापवर्गदे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते।

सिद्धि प्राप्ति के लिए इस मंत्र का जप करें- दुर्गे देवि नमस्तुभ्यं सर्वकामार्थसाधिके। मम सिद्धिमसिद्धिं वा स्वप्ने सर्वं प्रदर्शय।।

देवी के इस सिद्ध मंत्र से व्यक्ति में आकर्षण क्षमता और व्यक्तित्व में निखार आता है।-ॐ महामायां हरेश्चैषा तया संमोह्यते जगत्, ज्ञानिनामपि चेतांसि देवि भगवती हि सा। बलादाकृष्य मोहाय महामाया प्रयच्छति।।

देवी के इस सिद्ध मंत्र से सुंदर और सुयोग्य जीवनसाथी पाने की चाहत पूरी होती है। पत्नीं मनोरमां देहि नोवृत्तानुसारिणीम्। तारिणीं दुर्गसंसारसागरस्य कुलोद्भवाम्॥

सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्ति भूते सनातनि। गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोऽस्तु ते।। इस मंत्र का नियमित जप व्यक्ति को गुणवान और शक्तिशाली बनाता है।

जीवन में प्रसन्नता और आनंद चाहते हैं तो नियमित इस सिद्ध मंत्र का जप करें- प्रणतानां प्रसीद त्वं देवि विश्वार्तिहारिणि। त्रैलोक्यवासिनामीडये लोकानां वरदा भव।।

Tag In

#Chaitra Navratri 2019 #gudi padwa #navaratri #Ram Navami #चैत्र नवरात्रि #नवरात्रि Chaitra Navratri

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *