इस महीने में फिर से नासा खोजेगा विक्रम लैंडर

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। 7 सितंबर को इसरो ने विक्रम लैंडर को चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर उतारने की कोशिश की थी, लेकिन यह लैंडिंग सफल नहीं हो पाई थी। लैंडिंग से पहले ही विक्रम से वैज्ञानिकों का संपर्क टूट गया था। विक्रम को खोज ने की कोशिश तभी से जारी हैं। इसरो चीफ सीवन ने बताया की विक्रम से संपर्क नहीं हो पा रहा है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का लूनर रिकॉनसेन्स ऑर्बिटर (एलआरओ) चंद्रयान को खोजने में लगा हुआ है। नासा से सूचना है की एलआरओ चंद्रयान को नहीं ढूंढ पाया है। वहीं इसरो चीफ सिवन ने बताया की चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर बेहतर काम कर रहा है, उसके सारे यंत्र सही काम कर रहे हैं। ऑर्बिटर ने चाँद की सतह को लेकर काम शुरू कर दिया है, लेकिन हमें लैंडर से कोई सिग्नल नहीं मिले हैं।

विक्रम लैंडर के साथ क्या गलत हुआ इसकी जाँच राष्ट्रीय स्तर की कमेटी कर रही है। कमेटी की रिपोर्ट आने में अभी वक़्त है, कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद नई योजनाओं पर काम होगा। इन योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए कुछ अनुमतियों की जरुरत होती है उन पर काम चल रहा है। इसरो चीफ सिवन ने बताया की चंद्रयान-2 के बाद वह अब गगनयान पर फोकस करेंगे।

ऑर्बिटर के साइंटिस्ट आ.इ.पत्रों ने बताया की चंद्रयान-2 को खोजने निकला ऑर्बिटर सही काम कर रहा है। एलआरओ विक्रम लैंडर की तस्वीरें तो लेगा लेकिन यह तस्वीरें कितनी स्पष्ट होगी यह कहा नहीं जा सकता। शाम होने की वजह से यह तस्वीरें स्पष्ट नहीं होंगी। नासा ने कहा है की जैसी भी तस्वीरें आएंगी वह उसे भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो से साझा करेंगे।

Tag In

#Chandrayaan2 #ISRO #NASH #vikramlander

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *