इस राज्य में बन रहा देश का पहला डिजिटल गार्डन, 600 से ज़्यादा पेड़ों पर करी गयी क्यूआर कोडिंग

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज़, मोनिका सोनी। केरल राज्य को गॉड ओन कंट्री के नाम से भी जाना जाता है और अब केरल में देश का पहला डिजिटल गार्डन बनने जा रहा है। केरल में बनाया जा रहा डिजिटल गार्डन का नाम कनककुन्नू गार्डन रखा गया है। कनककुन्नू गार्डन को केरल में राजभवन स्थित 21 एकड़ के क्षेत्र में बसाया गया है जिसमें 126 प्रजातियों के हज़ारों पेड़ों को क्यूआर कोड दिया जा रहा है।

बता दें कि इस कार्य में अभी तक 600 पेड़ों पर क्यूआर कोड लग चुके हैं। शेष पेड़ों पर कोडिंग का काम ज़ारी है। डिजिटल गार्डन में घूमने आये लोग उस पेड़ के क्यूआर कोड को अपने स्मार्टफोन के ज़रिये उसके बारे में पूरी जानकारी ले सकतें हैं। यात्री क्यूआर कोड के ज़रिये पेड़ की प्रजाति, उम्र, बॉटेनिकल नाम, प्रचलित नाम, पेड़ों के फूल, खिलने के मौसम, चिकित्सा व अन्य जानकारी पलभर में पा सकते हैं। इस डिजिटल गार्डन को बनाने के पीछे सबसे ज़्यादा योगदान केरल विवि के वनस्पति डॉ. ए. गंगाप्रसाद और अखिलेश नागर ने दिया है।

बहरहाल, ऐसा पहली बार नहीं है जब भारत के राज्यों में या सिटी में पेड़ों पर क्यूआर कोड इस्तेमाल में लिया हो। दिल्ली के लुटियंस जोन स्थित लोधी गार्डन में करीब 100 से ज़्यादा पेड़ों पर क्यूआर कोडिंग की गयी है। जिन पेड़ों पर क्यूआर कोडिंग का इस्तेमाल किया गया है उनमे से कई सारे पेड़ सौ से भी ज़्यादा उम्र के हैं। वहीँ जयपुर में भी अभी तक करीब 6 पेड़ों पर जेडीए की तरफ से क्यूआर कोडिंग की गयी है।

Tag In

#Digital_Garden #Garden #kerala #latest_news #qr_code #क्यूआर कोड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *