इस होलिका दहन पर जाने होली पूजन की सही विधि , जिससे सुख-समृद्धि और पैसों की होगी बरसात

धर्म,

देश में इस साल होली का त्यौहार 21 मार्च को मनाया जा रहा है. रंगों का ये रंगीन त्यौहार होली तन को ही नहीं बल्कि मन को भी उल्लास और खुशी से रंग देता है. होली से एक दिन पहले सभी लोग होलिका दहन करते हैं. कहा जाता है कि अगर आप सही तरह से होलिका दहन करते हैं तो आपकी हर मनचाही इच्छा जरूर पूरी होती है. इसके लिए लोग कभी सही मुहूर्त पूछते हैं तो कभी कपड़ों का रंग. तो चलिए आपकी परेशानी दूर किए देते हैं. आपको बताते हैं आखिर क्या है होलिका दहन करने की सही विधि, जिसकी मदद से आप अपने जीवन को खुशहाल बना सकते हैं.

होली हिन्दुओं का बेहद प्यारा त्यौहार है. मुख्य तौर पर होली का उत्सव 2 दिन मनाया जाता है. पहले दिन होलिका दहन किया जाता है. इस दिन लकड़ियों को जलाकर होलिका दहन किया जाता है. जबकि दूसरे दिन रंग और गुलाल के साथ होली मनाई जाती है. सबसे पहले बात करते हैं होलिका दहन की उस विधि के बारे में जिसे करने से आप अपनी हर इच्छा पूरी कर सकते हैं. इसकी मदद से आप सौभाग्य प्राप्त कर सकते हैं. मान्यता है की अगर होलिका दहन को पूरे विधि-विधान के साथ किया जाए तो घर में कभी भी पैसो की कमी नहीं होती और बड़ी से बड़ी परेशानियों का हल अपने आप ही निकल जाता है. ऐसे में अगर आप भी पैसो की कमी से परेशान हैं और घर में सुख समृद्धि का वास चाहते हैं तो इस होलिका दहन पर इस तरह करें पूजा.

होलिका दहन की पूजा विधि-

होलिका दहन करने से पहले होली की पूजा करें . होलिका दहन के मुहूर्त में फूल ,गुलाब, पानी ,कलाया और गुड़ से होलिका का पूजन करें . गोबर से बनाई गई खिलौने की चार मालाएं अलग से घर में ला कर रखें .इसमें से एक माला पितरों के नाम, दूसरी हनुमान जी के, तीसरी शीतला माता के नाम की और चौथी माला अपने परिवार के नाम की निकाल लें .अब सबसे पहले कच्चे सूत के धागे को होलिका के चारो और परिक्रर्मा करते हुए लपेटते हुए लोटे का शुद्ध जल ,चावल, फूल,गुड़ ,साबुत हल्दी , मूंग, बताशे , गुलाल, नारियल साथ ही नई फसल के धान और गेहूं की बलियां एक- एक करके होली की आग में चढ़ाते जाएं .

अगर घर में पैसो की कमी रहती है तो ध्यान रखें कि पूजा करते समय परिवार के सभी सदस्य वहां पर मौजूद हो .होलिका दहन के समय होली की आग की 3 से 7 बार परिक्रमा करें. ऐसा करने से घर में सुख शान्ति बनी रहेगी .

होलिका दहन में बड़े बुजुर्गों की एक खास मान्यता भी है कि होलिका दहन के बाद उसकी थोड़ी सी भस्म अपने साथ जरूर लाएं , जब भी आप किसी शुभ काम के लिए कहीं बाहार जाए तो माथे पर इस भस्म से टिका लगा लें. ऐसा करने से आपका कोई भी काम नहीं रुकेगा .साथ ही ये उपाय आपके व्यापार को बढ़ाकर आपको धन लाभ भी करवाएगा..

Tag In

#गोबर #रंगीन त्यौहार #व्यापार #शीतला माता #हनुमान #हिन्दुओं #होलिका दहन #होली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *