Urmi

उर्मिला मराठी कार्ड के भरोसे

लोकसभा 2019,

प्रवीण कुमार . सिनेमा के रुपहले पर्दे से संसद तक सफर करने वालों में कई जाने माने नाम शुमार रहे , सिने जगत से राजनीति में आई इन हस्तियों ने राजनीति में भी खूब ड्रामा किया ,बड़े बड़े डॉयलग भी मारे ,पर अपना मुकाम बनाने के पहले ही चलते बने ,इस फेहरिस्त में अमिताभ बच्चन, सुनील दत्त, शत्रुघ्न सिन्हा, विनोद खन्ना, राजेश खन्ना, गोविंदा, हेमा मालिनी,स्मृती ईरानी,धर्मेंद्र, जया प्रदा से लेकर उर्मिला मातोंडकर के बीच दर्जनों ऐसे अभिनेता-अभिनेत्री हैं जिन्होंने राजनीति में अपनी किस्मत आजमाई, कुछ एक ने राजनीति में जगह बनाई कुछ इसे अलविदा कहकर वापस अपनी दुनिया में लौट गए।
इस बार उत्तर मुम्बई की लोकसभा सीट से उर्मिला मातोंडकर को कांग्रेस ने उमीदवार बनाया है ,गोविंदा के बाद संजय निरुपम 2009 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से लड़े और जीते लेकिन पिछले चुनाव में इस सीट पर निरुपम क़रीब 4 लाख वोट से हार गए। इसके बाद पत्रकार से नेता बने संजय निरुपम को पार्टी ने दोबारा यहाँ से नहीं लड़ाया औरतो उन्होंने पार्टी हाई कमान पर दबाव बनाकर अपनी सीट ही बदलवा ली है। लेकिन संजय निरुपम ने फिर वही अभिनेता वाला फ़ॉर्मूला इस सीट पर चलाने के लिए पार्टी में उर्मिला मातोंडकर को प्रवेश दिलाकर टिकट दिला दिया। बीजेपी -शिवसेना गठबंधन से गोपाल शेट्टी को मैदान में उतारा है, गोपाल शेट्टी सीट से वर्तमान सांसद गोपाल शेट्टी हैं ,और इस इलाके के कद्दावर नेताओं में शुमार हैं ,मुंबई उत्तर लोकसभा सीट में बोरीवली, दहिसर, मगा थाने, कांदिवली पूर्व, चारकोप और मलाड पश्चिम विधानसभा सीट आती है। यहाँ की बोरीवली, दहिसर, कांदिवली पूर्व और चारकोप विधानसभा सीट पर बीजेपी, मगाथने में शिवसेना तो सिर्फ़ एक विधानसभा सीट मलाड पश्चिम कांग्रेस के खाते में है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या उर्मिला मातोंडकर के नाम पर कॉग्रेस वापसी कर पायेगी ,

उर्मिला के साथ एक बड़ी सहानुभूति है, वह है उनका मराठी होना। उनको टिकट देते ही कांग्रेस ने यह मुद्दा भी उछाल दिया है। अब राजनीतिक पंडित यह कयास लगाने लगे हैं कि गोपाल शेट्टी ग़ैर मराठी हैं और बीजेपी के टिकट पर लड़ रहे हैं ऐसे में शिवसेना को मिलने वाला मराठी वोट उर्मिला के खाते में जा सकता है। फ़िलहाल अब तो मतदाता ही तय करेंगे की उनकी पसंद अभिनेता होगी या नेता।

Tag In

#congress 2019 #loksba2019 #nort mumabi #sanjay nirupm rahul gandhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *