कश्मीर में बदला रंग बीजेपी ने

लोकसभा 2019,

बीजेपी ने कश्मीर में अपना रंग बदल दिया है ,उसके कश्मीर की तीनों लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रहे भारतीय जनता पार्टी उम्मीदवारों को केसरिया रंग की जगह हरा रंग ज्यादा पसंद आ रहा है . पार्टी के उम्मीदवार हरे रंग के पोस्टर व झंडों की मदद से अपने अपने चुनाव प्रचार में लगे है। इतना ही नहीं चुनावी सभाओं में प्रचार के दौरान पार्टी प्रत्याशी व पार्टी का प्रचार कर रहे कार्यकर्त्ता जेब से हरे रंग का रूमाल भी निकाल कर लहरा रहे हैं. कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी ने भगवा रंग त्याग कर हरा रंग अपना लिया है ,

कश्मीर घाटी की सड़कों के किनारे लगे भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों द्वारा लगाए गए होर्डिंग से लेकर पोस्टर सब पूरी तरह से हरे रंग में हैं. इन होर्डिंग में चुनाव लड़ रहे पार्टी उम्मीदवार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चित्र है और कहीं भी केसरिया रंग नही है. इनमें सिर्फ हरे और सफेद रंग का ही इस्तेमाल किया गया है.

भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों द्वारा स्थानीय अखबारों में भी जो विज्ञापन दिए जा रहे हैं उनमें भी हरे रंग की ही प्रमुखता है. हालांकि हरे रंग को प्रमुखता से प्रयोग करने की बात सामने आने के बाद कुछ-एक ताज़ा विज्ञापनों में अब केसरिया रंग की एक हल्की सी पट्टी कहीं-कहीं दिखाई देने लगी है. मगर यह केसरिया पट्टी सिर्फ अखबारी विज्ञापनों में ही डाली गई है. पार्टी पोस्टर, बैनर और होर्डिंग आदि में अभी भी हरा रंग ही प्रमुखता से दिखाई दे रहा है.भारतीय जनता पार्टी की कश्मीर इकाई के नेता और प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर का कहना है कि पार्टी के झंडे में केसरी रंग के साथ-साथ हरा रंग भी है. उनका कहना है कि हरा रंग खुशहाली का प्रतीक है और पार्टी की कोशिश है कि कश्मीर में अमन व खुशहाली स्थापित हो.

कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी के बदलते रंग व मिज़ाज को देखते हुए लोग सोशल मीडिया पर जमकर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. कोई लिख रहा है कि कश्मीर में ‘भारतीय जनता पार्टी अपना ‘रंग’ बदल रही है’ तो कोई लिख रहा है कि पार्टी केसरी से हरी हो गई. एक अन्य ने लिखा है कि ‘आखिर भाजपा भी कश्मीर के रंग में रंग ही गई’.

पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया है कि ‘भाजपा का केसर कश्मीर पहुंचने के साथ हरा हो गया. ‘चुनावी रंग में देखो कैसे केसरिया रंग हरे में बदल गया है,यह कहीं पीडीपी का असर तो नही’.

दरअसल प्रतीकों के सहारे होने वाली कश्मीर की राजनीति में हरे रंग का अपना विशेष महत्व रहा है और हर किसी पार्टी या राजनेता ने अपनी राजनीति चमकाने के लिए इस रंग का समय-समय पर इस्तेमाल किया है.

कश्मीर के राजनीतिक इतिहास में अहम भूमिका निभाने वाले प्रमुख राजनीतिक दल नेशनल कांफ्रेस से लेकर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी तक सबने कभी न कभी हरे रंग का इस्तेमाल किया है.

प्रमुख दल नेशनल कांफ्रेस के झंडे का रंग लाल है और पोस्टर सहित तमाम प्रचार सामग्री भी लाल रंग में ही तैयार की जाती है, पर नेशनल कांफ्रेस भी वक्त आने पर हरे रंग का इस्तेमाल करना नही छोड़ती.

कश्मीर की दूसरी प्रमुख राजनीतिक पार्टी – पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की पहचान ही हरे रंग के साथ जुड़ी हुई है. पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के झंडे से लेकर हर प्रतीक का रंग हरा ही है. यही नहीं पार्टी मतदाताओं से वोट मांगते समय पार्टी प्रमुख महबूबा मुफ्ती चुनावी सभाओं में अक्सर हरे रंग के कपड़े ही पहनती हैं.

कुछ साल पहले तक भारतीय जनता पार्टी की कश्मीर में स्वीकार्यता न के बराबर रही है. एक समय ऐसा भी था जब कश्मीर में पार्टी को चुनाव में उतारने के लिए उम्मीदवार तक नही मिलते थे. मगर 2014 में दिल्ली में मोदी सरकार बनने और जम्मू कश्मीर में पहली बार सत्ता में आने के बाद में पार्टी ने कश्मीर में अपनी सक्रियता बढ़ाई है. कईं लोग इस दौरान पार्टी में शामिल भी हुए हैं. हाल ही में संपन्न हुए निकाय व चुनाव में भी पार्टी कश्मीर में काफी सक्रिय रही.

Tag In

#jammu & kashmir #modi-rally #modi-sarkar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *