priyanka

किसान आंदोलन करेंगी प्रियंका, बनारस को केन्द्र में रख मोदी को घेरने की तैयारी

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज़ डेस्क । देश में चुनावी बयार बहनी शुरू हो गई है और जल्द ही लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखें घोषित हो सकती है। इसी बीच देश विभिन्न राजनीतिक पार्टियां अपना-अपना चुनावी गणित बिठाने में जुटी हैं। हाल ही में कांग्रेस संगठन में महासचिव व पूर्वी यूपी प्रभारी के रूप में राजनीति में कदम रखने वाली प्रियंका गांधी वाड्रा बनारस से किसान आंदोलन करने जा रही हैं। लंबे समय से भूमि अधिग्रहण कानून को लेकर यूपी के किसान आंदोलन कर रहे हैं। किसान प्रतिनिधि पिछले 2 दिनों से प्रियंका के संपर्क में है। किसान प्रतिनिधियों से प्रियंका की हुई बात में प्रियंका ने भरोसा दिलाया है कि भूमि अधिग्रहण कानून का उल्लघंन किसी कीमत पर बर्दास्त नहीं किया जाएगा। प्रियंका ने बनारस को केन्द्र में रख जल्द एक किसान आंदोलन शुरू करने के संकेत दिए हैं।

किसान हितों की रक्षा के लिए एकजुट हों कांग्रेसजन

कांग्रेस में एन्ट्री के बाद प्रियंका पूर्वी यूपी प्रभारी तौर पर काफी सक्रियता से जुटी है। लखनऊ रोड़ शो के जरिए जहां प्रियंका गांधी वाड्रा ने विरोधियों की नींद उड़ा दी है तो वहीं अब बनारस से किसान आंदोलन की शुरूवात कर पीएम मोदी को घेरने की तैयारी में है। प्रियंका ने किसानों प्रतिनिधियों से वार्ता के दौरान स्पष्ट किया कि भूमि अधिग्रहण कानून का उल्लंघन किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने बनारस के कांग्रेसजनों को सख्त हिदायत दी कि वो किसानहित के मुद्दे पर एक जुट हों और आंदोलन के जरिए शासन-प्रशासन को मुंहतोड़ जवाब दें। करीब डेढ़ घंटे चली बैठक में प्रियंका गांधी ने पूरे धैर्य के साथ बनारस कांग्रेस के नेताओं की बातों को सुना। फिर सलाह दी कि पार्टी को यूपी की सत्ता में वापस लाना है तो गुटबाजी छोड़कर सिर्फ पार्टी के लिए काम करें।

तैयार की जा रही है किसान आंदोलन की रूपरेखा

उतरप्रदेश कांग्रेस कमेटी के लखनऊ स्थित कार्यालय में गत गुरूवार और शुक्रवार को देर रात बनारस के कांग्रेसजन के साथ बैठक हुई। इस बैठक में किसान खेत मजदूर कांग्रेस के प्रदेश संयोजक विनय शंकर राय ने ट्रांसपोर्ट नगर और रिंग रोड से प्रभावित किसानों के संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि बनारस में भूमि अधिग्रहण कानून 2013 का खुला उल्लंघन किया जा रहा है। यूपी की योगी सरकार के इशारे पर स्थानीय प्रशासन द्वारा लगातार किसानों पर जुल्म ढाये जा रहे हैं। किसानों द्वारा बार-बार आवाज उठाये जाने के बावजूद किसान विरोधी मोदी सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है। अब हार कर बनारस के किसानों ने बड़ा आंदोलन कर मोदी सरकार को जगाने के लिए संकल्प लिया है। किसान खेत मजदूर कांग्रेस ने सलाह दी है कि अगर कांग्रेस पार्टी फ्रंट फुट पर खेलना चाहती है तो बनारस को किसान आंदोलन में केन्द्र बनाना चाहिए।

प्रदेश की योगी व केन्द्र की मोदी सरकार से हर वर्ग परेशान

केन्द्र की मोदी सरकार और यूपी की योगी सरकार पर कांग्रेस लगातार हर वर्ग को परेशान करने का आरोप लगाती आ रही है। उतरप्रदेश कांग्रेस कमेटी की सचिव श्वेता राय ने कहा कि बनारस में किसान, नौजवान ,दलित ,मल्लाह, बुनकर भाजपा की कुरीतियों से कराह रहे हैं। नौजवानों, किसानों, दलित सफाई कर्मियों, मल्लाहो, मनरेगा मजदूरों को छलने का काम सरकार कर रही है, ऐतिहासिक धरोहरों को ध्वस्त किया जा रहा है। राय ने बैठक में प्रियंका से कहा कि जनमानस व्यापक आंदोलन के लिए संकल्पित है, आप इनके हक और अधिकार के लिए निर्णायक आंदोलन का नेतृत्व करें। बता दें कि, ले पंगा के कांग्रेस सूत्रों के अनुसार प्रियंका गांधी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जल्द ही बनारस को केंद्र बनाकर मुख्य मुद्दों पर स्थानीय लोगों की सहभागिता से व्यापक संघर्ष की रणनीति बनाने की आवश्यकता है।

Tag In

# नरेंद्र मोदी # मुलायम सिंह #kejriwal #kisan #आनंद शर्मा #सुषमा स्वराज andolan Priyanka Gandhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *