export - import

चीन के साथ व्यापार को संतुलित करने के लिए वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री ने उठाया ये कदम

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, अशोक योगी। वाणिज्य मंत्रालय के एक रणनीतिक दस्तावेज में चीन के साथ व्यापारिक असंतुलन को दूर करने के लिए निर्यात बढ़ाने और आयात निर्भरता में कमी लाने जैसे दिशा–निर्दश दिए है। इसके साथ ही चीन से अपने विनिर्माण केंद्र हटाने की इच्छुक कंपनियों को आकर्षित करने की बात भी कही गई है। मंत्रालय द्वारा तैयार रणनीतिक पत्र को वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु को सौंपा गया था।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु की ओर उठाये गए कदमों से पहले ही चीन के साथ व्यापार घाटा (निर्यात और आयात में अंतर) वित्त वर्ष 2018-19 में कम होकर 53.56 अरब डॉलर रह गया। वित्त वर्ष 2017-18 में व्यापार घाटा 63 अरब डॉलर था। चीन में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए पत्र में उचित निर्यात पहल का सुझाव दिया गया है।

पत्र में लिखा गया है कि ‘क्षेत्रीय समग्र आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के जरिए शुल्क में कमी के माध्यम से निर्यातकों को समर्थन देकर और भारत से वस्तु निर्यात योजना (एमईआईएस) की जगह पर उचित निर्यात प्रोत्साहन के जरिए इस दिशा में कोशिश की जा सकती है।’ उसमें कहा गया है कि कृषि, डेयरी उत्पादों और दवा क्षेत्र तक बाजार की पहुंच को बढ़ाने के लिए मंत्रालय को कड़ी मेहनत करने जरुरत है।

Tag In

#chana #china #export #export - import #import #suresh prbhu #चीन के साथ व्यापार को संतुलित करने के लिए बढ़ाने निर्यात china वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री ने उठाया ये कदम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *