election commision & Mob lynching

चुनाव आयोग ने वित्त मंत्रालय को चेताया

लोकसभा 2019,


चुनाव आयोग ने वित्त मंत्रालय को कहा है कि चुनाव के दौरान उसकी प्रवर्तन एजेंसियों की कोई भी कार्रवाई ‘निष्पक्ष’ और ‘भेदभाव रहित’ होनी चाहिए तथा ऐसी कार्रवाई की जानकारी चुनाव आयोग के अधिकारियों के संज्ञान में होनी चाहिए.

आयोग की यह सलाह मध्य प्रदेश में की गई आयकर विभाग की छापेमारी और हाल ही में कर्नाटक, आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में राजनीतिक नेताओं या उनसे जुड़े लोगों के ठिकानों पर मारे गए छापों की पृष्ठभूमि में आई है.वित्त मंत्रालय के तहत आने वाली एजेंसियों ने पिछले कुछ समय में 55 छापेमारी की हैं.

गौरतलब है कि आदर्श आचार संहिता के 10 मार्च को लागू होने के बाद आयकर विभाग ने राजनीतिक नेताओं और उनके सहयोगियों पर कई छापे मारे हैं जिसे विपक्ष चुनावी मौसम में केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करार दे रहा है.

चुनाव आयोग ने यह ऐसे समय में कहा कि सरकार चुनावी मौसम में विपक्षी पार्टियों को निशाना बनाने के लिए इन एजेंसियों का प्रयोग कर रही है.

केंद्रीय राजस्व सचिव को लिखे पत्र में चुनाव आयोग ने कहा कि वह, ‘सभी एजेंसियों को सख्त सलाह देते हैं कि चुनाव के दौरान सभी कानूनी कार्रवाइयां भले ही स्पष्ट रूप से चुनावी कदाचार को रोकने के लिहाज से की गई हों, पर वे पूरी तरह निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित होनी चाहिए.’

वित्तीय अपराधों से निपटने के लिए आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय और राजस्व खुफिया निदेशालय राजस्व विभाग की कार्यकारी शाखाएं हैं.

आयकर विभाग ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव (ओएसडी) प्रवीण कक्कड़ के आवास एवं अन्य परिसरों पर रविवार को छापेमारी की.

दिल्ली, भोपाल, इंदौर और गोवा स्थित 50 ठिकानों पर मारे गए इस छापे में अब तक नौ करोड़ रुपये जब्त किए गए हैं. इस कार्रवाई में कमलनाथ के भांजे रातुल पुरी, अमिरा और मोजर बीयर कंपनी भी शामिल हैं. हाल ही में कर्नाटक, आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में भी छापेमारी की थी.

पत्र में कहा गया कि चुनावी मकसद के लिए अवैध धन के संदिग्ध इस्तेमाल के मामले में राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी को आदर्श आचार संहिता लागू रहने के दौरान ‘उपयुक्त प्रकार से सूचित’ रखा जाना चाहिए.

पत्र में यह भी उल्लेख किया गया है कि कुछ वर्षों में मतदाताओं का मत बदलने की मंशा से धनबल का इस्तेमाल निष्पक्ष, नैतिक एवं विश्वसनीय चुनाव कराने में बड़ी चुनौती के तौर पर उभरा है.

Tag In

#chunav aayog #osd praveen kakkr #vitt mantraly loksbha 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *