jat airways

जेट एयरवेज को नहीं मिला कर्जा, 18 तक उड़ानें बंद

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, अशोक योगी। समस्याओं में घिरी जेट एयरवेज एयरलाइन अब ठप होने की स्थिति में आ गई है। एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज की मंगलवार से सभी उड़ानें बंद हो सकती हैं। इस पर अंतिम निर्णय मंगलवार होने वाली निदेशक मंडल की आपात बैठक में हो जाएगा। दरअसल, जेट एयरवेज को संकट से उबारने के लिए कर्जदाता बैंकों की सोमवार को बैठक हुई थी। कई घंटों तक चली इस महा बैठक में कोई नतीजा निकल कर नही आया। इस बीच जेट एयरवेज ने सोमवार को अपने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को 18 अप्रैल तक रोकने की घोषणा कर दी है। वहीं जेट एयरवेज के पायलटों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बैंकों से इस एयरलाइन को ध्वस्त होने से बचाने का आग्रह किया है।

जेट एयरवेज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय दुबे के अनुसार कर्जदाताओं से फंड नहीं मिलने की वजह से अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों को रोका गया है। दुबे ने कहा कि हम कर्जदाताओं के साथ काम कर रहे हैं ताकि परिचालन के लिए फंड जुटा सकें। अभी तक हमें यह कोष नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि कर्ज दाताओं के साथ बातचीत की मौजूदा स्थिति के अलावा अन्य संबंधित मामलों को मंगलवार को बोर्ड के समक्ष रखा जाएगा।दुबे ने कहा कि हम अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 18 अप्रैल तक बंद रखेंगे।

फंड नहीं मिलने की वजह से बढ़ी मुश्किल

गौरतलब है कि एयरलाइन का लंबी दूरी का परिचालन बड़े आकार के बोइंग बी 777 और एयरबस ए330 विमानों के जरिये किया जाता है। वहीं एयरलाइन ने पश्चिम एशिया, दक्षेस और दक्षिण पूर्व एशियाई बाजारों के लिए छोटे बी 737 विमान लगाए हुए हैं। ऐसे में फंड नहीं मिलने की वजह से मुश्किलें और ज्‍यादा बढ़ गई हैं। आज की निदेशक मंडल की बैठक में एयरलाइन को ठप करने का आधिकारिक निर्णय अहम् माना जा रहा है। गौरतलब है कि एयरलाइन की अधिकतर घरेलू विमान पहले से ही किराया नहीं चुकाए जाने की वजह से उड़ान नहीं भर पा रही हैं।

पीएम से पायलटों ने की बचाने अपील

उधर, जेट एयरवेज के पायलटों ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर एयरलाइन को बचाने की अपील की है। पायलटों के संगठन नेशनल एविएटर्स गिल्ड (एनएजी) के उपाध्यक्ष असीम वलियानी ने बताया है कि  ‘‘हम एयरलाइन को जारी रखने के लिए 1,500 करोड़ रुपये की पूंजी जारी करने की एसबीआई से अपील करना चाहेंगे। हम 20,000 नौकरियों को बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी अपील करते हैं।’’

समीक्षा का निर्देश दिया सुरेश प्रभु ने

वही नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने विमान किरायों में वृद्धि और उड़ानों के रद्द होने सहित संकटग्रस्त जेट एयरवेज से जुड़े विभिन्न मुद्दों की समीक्षा का निर्देश दिया है। प्रभु ने नागर विमानन सचिव प्रदीप सिंह खारोला को यात्रियों के अधिकार एवं सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाने का भी निर्देश दिया है। प्रभु ने ट्वीट कर कहा, ‘नागर विमानन मंत्रालय के सचिव को उड़ान की कीमतों में इजाफा, उड़ानों के रद्द होने और जेट एयरवेज से जुड़े मुद्दों की समीक्षा करें।

Tag In

# विनय दुबे #directed secretary #lepannga news #lepannga news hindi #suresh prabhu #एयरबस ए330 #बोइंग बी 777 jat airways jet airways

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *