टेंपो में स्कूली बच्चों को भर-भर कर ले जाने का मामला उठा अब विधानसभा में, विधायकों ने जताई ऐसी प्रतिक्रिया

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, प्रियंका शर्मा। स्कूली बच्चों को टेंपो व बस में भर-भर कर ले जाना का मामला शुक्रवार को विधानसभा में गूंजा. जी हाँ सलूंबर विधायक अमृत लाल मीणा ने यह मामला कल विधानसभा में उठाया और पूरे सदन में इस बात पर चिंता जताई गई. हालांकि, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने इस मामले पर कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है.

दरअसल स्कूल में क्षमता से ज्यादा बस व टेम्पू में बच्चे ले जाने से केवल परिजन ही चिंतित नहीं है, बल्कि अब जन प्रतिनिधि भी इससे चिंतित नजर आ रहे है. विधायक अमृत लाल मीणा ने सलूम्बर क्षेत्र का मामला उठाया. उन्होंने आरोप लगाया कि स्कूली बच्चों को लाने ले जाने वाले वाहन RTO से रजिस्टर्ड नही है, वहीं कई का फिटनेस का प्रमाण पत्र ही नहीं है. इस पर मंत्री प्रताप सिंह ने कहा कि बाल वाहिनी का मामला हम सब की जिम्मेदारी है, ऐसे में सभी सदस्य जिम्मेदारी के साथ ऐसी स्कूलों को समय-समय पर चेक करें, जहां बाल वाहिनी की फिटनेस नहीं है. हर स्कूल में कितनी बाल वाहिनी चल रही उसका सारा रिकॉर्ड आरटीओ डिपार्टमेंट ने अपने पास ले लिया है.

वही, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि शहरों में केवल बाल वाहिनी से ही बच्चे नहीं आते, बल्कि हजारों की तादात में टैंपू भी बच्चों को लेकर आते हैं. एक-एक टेंपो में 20-20 , 25-25 बच्चे सीट के ऊपर सीट लगा कर आते हैं. जिससे दुर्घटना होने का खतरा बना रहता है..

उधर, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा है कि लोक परिवहन सेवा की सुविधा पहले से निर्धारित समस्त राष्ट्रीयकृत मार्गो पर बनायी गयी 476 स्कीम मार्गों के अतिरिक्त अन्य जगहों से चलाने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. इसके साथ ही खाचरियावास ने यह भी कहा है कि, डूंगरपुर विधानसभा क्षेत्र में तकनीकी एवं वित्तीय साध्यता के आधार पर नई बस संचालन पर विचार किया जाएगा. खाचरियावास ने शुक्रवार को विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान विधायक गणेश घोघरा के मूल प्रश्न के जवाब में बताया कि राजस्थान सरकार की जन घोषणा “ग्रामीण परिवहन बस सेवा का विस्तार करते हुये दूर-दराज के गांवों/ढाणियों को बस सेवा से जोडना” का क्रियान्वयन प्रक्रियाधीन है. जल्दी ही इस पर भी कार्य किया जायगा।

Tag In

#RTO #टेंपो #परिवहन_मंत्री #विधानसभा #स्कूली_बच्चों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *