टॉम वडक्कन ने छोड़ा कांग्रेस का हाथ, कमल से जोड़ा नाता

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, प्रीति दादूपंथी। लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर जहां राजनितिक पार्टियों में महागठबंधन के प्रयास जारी है, वहीं दूसरी ओर विभिन्न पार्टियां एक-दूसरे के नेताओं को अपने साथ मिलाने की कोशिश कर रही है। इसी क्रम में बीजेपी ने कांग्रेस पार्टी के घर में सेंध लगा कर एक बड़ी सफलता प्राप्त की है। हम बात कर रहे है कांग्रेस के दिग्गज नेता टॉम वडक्कन की जो कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गये है। आपको बता दें कि वडक्कन केरल में बड़े कांग्रेस नेता रहे है और वे रोमन कैथलिक समुदाय से आते है।

कांग्रेस में वंशवाद की राजनीति हावी

टॉम वडक्‍कन ने कहा कि, ‘पाकिस्‍तानी आंतकवादियों ने जब हमारे देश पर हमला किया, तब कांग्रेस पार्टी ने जैसे व्‍यवहार किया, वो मुझे बिल्‍कुल भी पसंद नहीं आया। उस समय कांग्रेस के बयान ने मुझे बेहद दुखी किया। अगर आतंकी हमले के समय कोई राजनीतिक पार्टी देश के विरुद्ध बयान देती है, तो मेरे पास पार्टी छोड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था।’ इस दौरान उन्होंने कहा कि, ‘मैंने अपने राजनीति जीवन के कई साल कांग्रेस में बिता दिये, लेकिन वहां वंशवाद की राजनीति हावी है।’ वहीं उन्‍होंने कहा कि, ‘पाकिस्‍तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना के द्वारा एयर स्ट्राइक किए जाने पर कांग्रेस का सवाल उठाना गलत था। इससे देश की भावनाएं आहत हुई हैं।’

रवि शंकर की मौजूदगी में थामा दामन

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में कांग्रेस नेता टॉम वडक्कन भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। टॉम वडक्‍कन यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी के बेहद करीबी बताए जाते है। बताया जा रहा है कि कुछ और कांग्रेसी नेता भी हाथ छोड़ कमल थाम सकते हैं। टॉम वडक्कन पूर्व प्रधानमंत्री और दिवंगत कांग्रेस नेता राजीव गांधी के सहायक भी रहे है।

कई बड़े पदों पर कांग्रेस में रहे वडक्‍कन

टॉम वडक्कन कांग्रेस के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता रहे चुके है। इसके अलावा वडक्‍कन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव, एआईसीसी शिकायत निवारण समिति के प्रमुख और फिल्‍म प्रमाणन ट्रिब्‍यूनल के अपीलीय सदस्‍य भी रह चुके है। केरल में उनकी अच्‍छी पकड़ है। ऐसे में वडक्‍कन के भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है। वहीं, भाजपा के लिए दक्षिण में पैर मजबूत करने में ये कदम मददगार साबित होगा।

Tag In

#tom vadakam #आरक्षण #केंद्र सरकार #कोझिकोड #जीएसटी #झूठे वादे #टॉम वडक्कन #नोटबंदी #प्रियंका गांधी वाड्रा #मछुआरों #राष्ट्रीय स्तर #राहूल गांधी बीजेपी लोकसभा चुनाव 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *