तूल पकड़ सकता है केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को बंधक बनाने का मामला

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। कलकत्ता में अराजकता की चरम सीमा की घटना हम रोज सुनते हैं। राजनैतिक हत्याए वहाँ आम बात है। पश्चिम बंगाल में लॉ एंड आर्डर की धज्जियाँ उडी हुई हैं । अपराध वहाँ राजनैतिक शह से पनप रहा है। हाल ही में बंगाल में राजनैतिक विरोध में हुई एक अन्य घटना तूल पकड़ सकती है। यह घटना कलकत्ता के जादवपुर यूनिवर्सिटी में पश्चिम बंगाल के बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो के साथ हुई।

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो से की गई बदसलूकी का मुद्दा गरमा सकता है। बाबुल सुप्रियो जादवपुर यूनिवर्सिटी में एबीवीपी के किसी कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। जैसे ही वह यूनिवर्सिटी पहुंचे उन्हें वामपंथी छात्रों ने बाबुल सुप्रियो वापस जाओ के नारे लगाते हुए वापस जाने को कहा। इस बात पर छात्र और सांसद के बीच काफी गरमा गरमी हो गई जिसमे सुप्रियो ने छात्रों से कहा की वह उन्हें कितना भी भड़काने की कोशिश करें पर वो भड़क ने वाले नहीं हैं और जब तक वह शांत नही हो जाते तब तक वो वहाँ से नहीं जाएंगे। वाइस चांसलर सुरंजन दास ने छात्रों से बात करने की कोशिश भी की पर छात्र नहीं माने। इसके बाद सुप्रियो जब राज्यपाल के साथ यूनिवर्सिटी कैंपस से बाहर निकलने लगे छात्रों ने उन्हें घेर लिया और बाहर नहीं जाने दिया गया। बड़ी मशक्कत के बाद सुप्रियो कैम्पस से बहार निकल पाए।

वामपंथी छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने बाबुल सुप्रियो को लगभग 6 घंटे बंधक बना के रखा। इसके विरोध में बीजेपी पश्चिम बंगाल में विरोध प्रदर्शन कर सकती है। बंगाल की मुख्य मंत्री ममता बनर्जी ने राज्यपाल धनकड़ से इस बारे में बात की है। राज्यपाल यूनिवर्सिटी जाकर वाइस चांसलर के खिलाफ एक्शन लेने वाले थे। मुख्यमंत्री ने उन्हें मामले को शांत होने के बाद युनिवर्सिटी जाने का अनुरोध किया है। मुख्यमंत्री का कहना था की मामला और बिगड़ सकता है। वही बताया जा रहा है की राज्यपाल यूनिवर्सिटी वाइस चांसलर को बरखास्त भी कर सकते हैं। इस मामले को लेकर बीजेपी में आक्रोश है। वही सत्ताधारी पार्टी मामले को छोटा बनाने में लगी हुई है। यूनिवर्सिटी के बाहर भारी मात्रा में सुरक्षा तैनात की गई है। यह मामला गंभीर रूप ले सकता है।

Tag In

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *