devi

दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी और रेशमा पटेल का इस्तीफा

लोकसभा 2019,

लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट आज

राजस्थान मेँ बीजेपी को लोकसभा चुनाव की लिस्ट जारी होने के पहले ही दोहरा झटका लगा है, दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी और रेशमा पटेल ने इस्तीफा दे दिया , बीजेपी को 24 घंटे के अंदर दो बड़े झटके लगे हैं। बीजेपी के दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी ने शुक्रवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने बीकानेर से मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल को टिकट नहीं देने की मांग को लेकर इस्तीफा दिया है। इससे पहले बीजेपी की महिला नेता रेशमा पटेल ने शुक्रवार को बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है।

2019 के लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी शनिवार को उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी करेगी. 16 मार्च को चुनाव को लेकर बीजेपी संसदीय दल की बैठक है. ऐसी खबरें है कि देर शाम तक करीब 100 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया जाएगा. इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत बीजेपी के तमाम नेता मौजूद रहेंगे.ये लिस्ट पहले दो चरणों के चुनाव के लिए होगी. इस लिस्ट में आंध्रप्रदेश और तेलंगाना की 42 सीटों. पश्चिमी यूपी, उत्तराखंड बिहार, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और महाराष्ट्र की कई सीटें होंगी. 11 और 12 अप्रैल को 188 सीटों पर वोटिंग होनी है.

भाटी के इस्तीफे से बीजेपी को परेशानी

इस बीच खबर है की भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी ने शुक्रवार को बीजेपी से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने बीकानेर से मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल को टिकट नहीं देने की मांग को लेकर इस्तीफा देने की बात कही है. इस्तीफे के बाद भाटी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उन्होंने अपना इस्तीफा प्रदेश नेतृत्व को मेल कर दिया है. इस दौरान इस्तीफे का कारण पूछने पर उन्होंने कहा कि बीकानेर के मौजूदा सांसद मेघवाल को लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया जाना चाहिए. मैंने इसपर अपनी आपत्ति केंद्र और प्रदेश नेतृत्व के समक्ष दर्ज करा दी है. लेकिन अब लगता है कि पार्टी नेतृत्व ने मेरी मांग पर ध्यान नहीं दिया है. जिसके बाद मैंने इस्तीफा देने का फैसला लिया है. फिलहाल मेघवाल के इस्तीफे पर बीजेपी के राज्य नेतृत्व ने अब तक आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा है.भाटी ने मेघवाल पर कांग्रेस के साथ मिलकर उसके एजेंट के रूप में काम करने का आरोप भी लगाया है. भाटी ने कहा कि उन्होंने दिसंबर में विधानसभा चुनाव के दौरान भी यह बात पार्टी नेतृत्व के समक्ष रखी थी.हालांकि पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने प्रत्याशियों की घोषणा अभी नहीं की है. ऐसे में मेघवाल को बीकानेर से टिकट नहीं मिलने की स्थिति में भाटी क्या करेंगे इसका जवाब आने वाले कुछ दिनों में पता चलेगा. राजस्थान विधानसभा में सात बार विधायक रहे भाटी, मेघवाल के बड़े विरोधी रहे हैं. चुनाव के पहले भाटी का विरोध बीकानेर सीट पर मेघवाल के लिए कई परेशानियां खड़ी कर सकता है. लोकसभा चुनाव के दौरान मेघवाल की सीट बदलने की भी अटकलें काफी तेज है.

Tag In

# आंध्रप्रदेश #तेलंगाना #देवी सिंह भाटी #नरेन्द्रमोदी #पीएम मोदी #रेशमा पटेल अमित शाह कांग्रेस बीजेपी लोकसभा चुनाव 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *