देशभर में आज महाराणा प्रताप की 479वीं जयंति मनाई जा रही है, ये है उनका चर्चित किस्सा

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, धीरज सैन। मेवाड़ सहित आज पूरा देश आन, बान और शान के प्रतीक महाराणा प्रताप की 479वीं जयंति मना रहा है। देशभर में आज कई स्थानों पर इस वीर पुरूष को याद किया जाएगा और कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

साथ ही कई स्थानों पर बैड़ बाजों के साथ राजपूत समाज सहित कई समाज रैली निकाल रहे है। मेवाड़ के शासक महाराणा प्रताप को अपने जीवन में काफी संघर्ष करना पड़ा था। महाराणा प्रताप के कई किस्से है जो आज भी याद किए जाते है। उन्हीं में से एक किस्सा है। एक बार जब महाराणा प्रताप अकबर से हार गए थे तो वो जंगल में भटक रहे थे तो उनको घास फूस की रोटी भी खानी पड़ी थी। इसी बीच एक बार महाराणा प्रताप जब जंगल में भटक रहे थे तो एक दिन उन्होंने पांच बार भोजन पकाया लेकिन उन्हें इस दौरान हर बार भोजन को छोड़कर भागना पड़ा था।

बता दें कि अकबर ने कई बार महराणा प्रताप से उनका मेवाड़ हथियाने की कोशिश करी मगर महाराणा प्रताप ने अपने मेवाड़ की रक्षा कर उसकी शान बनाये रखी। महाराणा प्रताप का जन्म राजस्थान के कुम्भलगढ़ में महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जयवंत कंवरी के घर हुआ था। बचपन से ही महराणा प्रताप एक वीर और साहसी बालक के रूप में जाने जाते थे। प्रताप का घोड़ा चेतक भी बहुत साहसी था। चेतक ने कई मौकों पर अपने स्वामी की रक्षा की है।

बता दे कि महाराणा प्रताप बचपन से ही तलवार और भालों से खेलने का बहुत शौक था। माना जाता है की मुग़ल शासक के साथ युद्ध में ही उनको वीरगति प्राप्त हुई थी और उनकी याद में आज भी हम उनकी वीरगति का सम्मान करते हुए यह जयंती धूम धाम से मानते है।

Tag In

#479thbirthanniversary #birthanniversary #maharanapratap #जयंति #महाराणाप्रताप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *