देश के कई हिस्से बाढ़ की चपेट में, मध्य भारत में अब तक गई इतनी जान…

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। बाढ़ की वजह से देश का एक बड़ा हिस्सा प्रभावित हुआ है। दक्षिण भारत के कर्नाटक, केरल, पश्चिम राज्य महाराष्ट्र और मध्य भारत में बाढ़ ने 250 लोगों की जान ले चुकी है। बाढ़ की वजह से करीब 50 लोग अब भी लापता हैं। प्रशासन की ओर से सैकड़ों राहत शिविर लगाए गए हैं जिसमें लाखों लोगों ने शरण ली है। बाढ़ से लाखों एकड़ में फैली फसल बर्बाद हो गई है। इस पूरे इलाके में सेना और एनडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्यों में जुटी हुई है। कर्नाटक में अब भी हालत बदतर हैं। साथ ही वहाँ के कई गांव मुख्य धारा से कट चुके हैं।

कर्नाटक में बाढ़ का कहर जारी है अब तक 65 लोगों की मृत्यु का अनुमान है और 14 लोग लापता हैं राहत शिविरों का कार्य जारी है। कर्नाटक के मुख्य मंत्री येद्दियुरप्पा ने प्रधानमंत्री मोदी से बाढ़ पीड़ितों के राहत कोष की बात की है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी कर्नाटक बाढ़ पीड़ितों को जल्द मदद करने का आश्वासन दिया है, जल्द ही एक टीम बाढ़ में हुए नुकसान का परिक्षण करने जाएगी। अनुमान है की अब तक कर्नाटक में 40000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो चुका है।

कोलकाता के कई क्षेत्रों में जल भराव की सूचना है। एयरपोर्ट पर कई विमान भी विलंबित हुए हैं। कलकत्ता समेत कई जगहों पर बिजली गिरने से 4 लोगों की मृत्यु हो गई है। 19 लोगों के घायल होने की भी खबर है। यह जानकारी आपदा प्रबंध मंत्री जावेद अहमद खान ने दी है।

राजस्थान के हाड़ौती में लगातार 24 घंटे से बारिश हो रही है। लगातार बारिश से बाढ़ के हालात बन गए हैं। कोटा में राहत और बचाव कार्यों के लिए सेना की मदद ली जा रही है। राजस्थान में बारिश से 5 लोगो कि मौत की जानकारी हैं। बाराँ, झालावाड़, बूंदी में लोगों से सतर्क रहने कहा गया हैं।

मध्य प्रदेश के कई प्रदेशों में भारी बारिश से बाढ़ के से हालात हो गए हैं। जिससे लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा जा रहा है। मंदसौर जिले में शिवना नदी उफान पर है। भगवान पशुपति का शिवलिंग का बारिश के पानी से जलाभिषेक हो चूका है। राज्य के अधिकांश नदियों में जलस्तर बढ़ा है। विभिन्न बचाव कार्य जारी है।

Tag In

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *