नवंबर तक पूरी हो सकती है रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद की सुनवाई।

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क। सभी रामजन्मभूमि -बाबरी मस्जिद विवाद में शामिल हिन्दू पार्टियां जिन्हे हाई कोर्ट द्वारा दो तिहाई जमीन दी गई थी उनका सुप्रीम कोर्ट के सामने दलीले पूरी हो गई है। सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की दलीले अभी बाकी है। अल्लाहाबाद कोर्ट ने विवादित जमीन को 3 हिस्सों में बाटा था। भगवान राम ,निर्मोही अखाडा और सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड इनमे विवादित जमीन के बटवारे का फैसला हुआ था। हिन्दू महासभा ने कहा की एक बार जहा मंदिर बन गया तो मंदिर ही रहता है। विवाद का निपटारा नवंबर में हो सकता है।

राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति की तरफ से वकील ने कहा की बाबरी मस्जिद बाबर ने नहीं बनाई थी। इस मामले में उनके वकील पीएन मिश्रा ने पुस्तकों को सबूत मानने का अल्लाहाबाद कोर्ट का फैसला दिखाया और कहा की सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड भी यह साबित नहीं कर पाया की बाबरी मस्जिद बाबर के समय की है। कोर्ट के फैसले में यह कहा गया की यह कही से साबित नहीं होता की मस्जिद बाबर ने बनवाइ थी बल्कि जस्टिस अग्रवाल ने कहा की मस्जिद औरंगजेब ने बनवाई थी।

जीरह के 15 वे दिन भी समिति की जिरह चलती रही जिसमे समिति के वकील पीएन मिश्रा ने दलील की जिस मस्जिद को बाबर द्वारा बनाई जाने की बात कही जा रही है वह दरअसल औरंगजेब ने बनाई थी। मिश्रा ने कोर्ट में ब्रिटिश शासन से पहले लिखी किताब का हवाला देते हुए कहा की इस किताब में 30 -40 साल पहले बनी इमारत का जिक्र है जिसे लोग मस्जिद जन्मभूमि के नाम से जानते थे।
हिन्दू पक्ष की और से यह भी दलील दी गई की पहले मुस्लिम पक्ष कह रहा था की जमीन के नीचे खुदाई में कुछ नही मिला है और बाद में कहा गया की जमीन के नीचे मिले ईमारत के अवशेष मुस्लिम इमारतों की तरह हैं।

मध्यस्थता से निर्णय लेने में विफल होने के बाद यह विवाद पुनः कोर्ट में पहुँचा। हिन्दू पक्ष की और से दलील दी गई की इतने वर्षो के बाद रामजन्म का सबूत कैसे माँगा जा सकता है। लोगो की अटूट आस्था और श्रद्धा ही रामजन्म का सबूत है। परासरण पहले भी रामजन्मभूमि को लेकर कई सबूत दे चुके हैं।

Tag In

#Ayodhyacase #court #courtpermission #Ram_Janmabhoomi_Babri_Masjid #supreem-court #Supreme_court #Uttar_Pradesh babri masjid ram janm bhoomi ram-mandir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *