para

नहीं खुला पैराशूट, 6000 फीट की ऊंचाई से गिरकर पैरा ट्रूपर की मौत, एक साल में तीसरा हादसा

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज़ डेस्क, तीर्थ राज । आगरा के मलपुरा क्षेत्र में स्थित पैरा ड्रॉपिंग जोन में पैरा ट्रूपर के पैराशूट नहीं खुलने के कारण गुरूवार को एक और हादसा हो गया। हादसे में 6000 फीट की ऊंचाई से गिरकर जवान की मौत हो गई। पिछले एक साल में पैरा ट्रूपर के पैराशूट नहीं खुलने के कारण हादसे का शिकार होने की यह तीसरी घटना है। गौर करने वाली बात तो यह है कि तीनों बार पैराट्रूपर रिजर्व (इमरजेंसी) पैराशूट भी नहीं खोल पाए और जान से हाथ धोना पड़ा। इन हादसों से हैरानी इसलिए भी हो रही है कि क्योंकि एक साल का समय बहुत लंबा नहीं है। पैराट्रूपर के पास एक और पैराशूट होता है, जो उसके पेट के साथ बंधा होता है। इसे रिजर्व पैराशूट कहते हैं। पिछले दोनों हादसे में यह पैराशूट नहीं खुला। इस हादसे में भी यही माना जा रहा है।

12 माह में तीसरा हादसा, नहीं खुल पाया रिजर्व पैराशूट भी

पैराशूट न खुलने से पैराट्रूपर की जान जाने का ये मामला कोई नया नहीं है। आगरा के मलपुरा पैरा ड्रोपिंग जोन में पिछले एक साल के अंदर यह तीसरा हादसा हुआ है और तीनों बार पैराट्रूपर रिजर्व पैराशूट तक नहीं खोल पाए थे और मौत का शिकार हो गये। गुरूवार को हुए हादसे में शिकार बने हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा के रहने वाले पैरा ट्रूपर अमित कुमार आगरा में पैरा ट्रूपिंग की ट्रेनिंग ले रहे थे। गुरुवार को अमित ने आसमान से 6000 फ़ीट की ऊंचाई से छलांग लगाई। नीचे आने के दौरान उनका पैराशूट नही खुल सका। अमित कुमार हेलीकॉप्टर से सीधे जमीन पर आकर गिरे। इससे वो गंभीर रूप से घायल हो गए। सेना के जवान उन्हें सैन्य अस्पताल ले गए, जहां उपचार के दौरान अमित ने दम तोड़ दिया।

बीते साल भी दो जवान हुए थे इसी हादसे का शिकार

बात करें पिछले एक साल की तो पैराट्रूपर की मौत का ये मामला नया नहीं है, बीते साल नवंबर में 11.5 हजार फुट की ऊंचाई से गिरने से 11 वीं पैरा रेजिमेंट के होनहार पैराजंपर हरदीप की मौत हो गई थी। 26 वर्षीय हरदीप पटियाला के सबाना तहसील के गांव समंडी मलिक के रहने वाले थे। पैराजंपर हरदीप की मौत की वजह उनके सिर में गहरी चोट बताई गई थी। उनके शरीर में और भी कई जगह चोट लगी थी। थे। उनका पैराशूट की साइड की डोरियां ( रस्सी) उनके एक हाथ में फंसी मिली। वहीं ठीक एक साल पहले मार्च 2018 में पलवल के गांव गहलब निवासी पैरा कमांडो सुनील सहरावत की मौत हो गई थी। उनके साथ ही ऐसा ही हादसा हुआ है। पैरा ग्लाइडिंग की ट्रेनिंग लेते समय पैराशूट नहीं खुला और सुनील जमीन पर आ गिरे। इससे उनकी मौत हो गई। 25 वर्षीय पैरा कमांडो सुनील सहरावत साल 2012 में फौज में भर्ती हुए थे।

Tag In

#अमित कुमार #पैरा कमांडो सुनील सहरावत #पैराशूट #हरदीप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *