nirav

नीरव मोदी लंदन में नजर आया, कांग्रेस ने कहा, मोदी है तो मुमकिन है

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, प्रवीण कुमार । भाजपा के बड़बोले केन्द्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद कहने को तो कानून मंत्री हैं, कानून इनके इशारों पर उठक-बैठक करता है। खास कर जब राहुल गांधी के मुद्दे पर बोलना होता है तो इनका ज्ञान ज्ञानी मुन्नियों से भी भारी हो जाता है, वहीं पीएम मोदी जी आज ग्रेटर नोएडा थे, लेकिन एक शब्द भी नीरव मोदी के बारे में उनके मुंह से सुनने को नहीं मिला। यूपी सीएम योगी भी वहीं थे, लेकिन वो भी महान संत नीरव की बड़ाई में एक शब्द तक नहीं बोले। साहेब, क्या जताना चाहते हैं, क्या बताना चाहते हैं, पब्लिक है…ये सब जानती है। लेकिन लुक आउट नोटिस जारी है, नीरव मोदी लंदन में खुले आम 10 हजार डॉलर की जैकेट पहन कर भारत सरकार को आईना दिखा रहा है और कह रहा है नो कमेंट। जहां ना पहुंचे रवि, वहां पहुंचे कवि….मीडिया ने तो नीरव मोदी को आखिर खोज निकाला। फिर मोदी सरकार की ऐसी क्या मजबूरी, सवाल हजम नहीं हो रहा है। नीरव को कौन मोदी बचा रहा है। यही बैंक का पैसा अगर किसी किसान, मजदूर या मध्यम वर्गीय व्यक्ति का होता तो शायद सरकारों और बैंक की कार्रवाई से परेशान होकर उसे जान ही देनी पड़ती । कारण यह भी रहता कि वो लोग नीरव मोदी जैसे शीर्ष कारोबारियों से ज्यादा बड़े आर्थिक अपराधी होते है।

मोदी सरकार के भारी भरकम केन्द्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद जी क्या दो शब्द माननीय नीरव मोदी के बारे में भी बोलेंगे। पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी मामले में नीरव मोदी वांटेड है। हीरों का कारोबारी ये लंदन सड़कों पर घूमता नजर आया है। ब्रिटिश अखबार द टेलीग्राफ ने सोशल साईट ट्विटर पर एक वीडियो अपलोड किया। इस वीडियो में नीरव मोदी लंदन की सड़कों पर रईसजादों के जैसे दिखाई दिया। बेखौफ, भारतीय कानून की धज्जियां उड़ाता हुआ और ये संदेश देता हुआ कि भारत में लूटो और विदेशों में ऐश करो। लंदन की सड़कों पर मूंछों पर ताव ऐसा दिख रहा है कि मानो साहबजादे मोदी सरकार के ही प्रतिनिधि हों।

देश के मजदूरों का, मध्यम वर्ग के लोगों का जो सुबह अगर दाल बने तो शाम को सब्जी बनेगी या नहीं इसी उधेड़बुन में रूपिया बचाते और बैंकों में जमा करते, उसे ही लूटकर फरार नीरव मोदी 73 करोड़ के ऐशगाह में लंदन में जिन्दगी जी रहा है। जिसकी जगह तिहाड़ या ऑर्थर की कोठरियों में है, वो मोदी है तो मुमकिन है। हम यहां बात करते हैं रॉबर्ट वाड्रा की या उन सरीके तमाम आर्थिक झोल-मोल करने वाले नामी सख्शियतों की जो भले ही किसी नामी खानदान से उनका नाम जुड़ा हो वो देश में तो है और भारतीय संविधान, कानून की हिफाजत और इज्जत कर रहे हैं।

आखिर सवाल उठता है कि नीरव मोदी को बचाने की कोशिश कौन कर रहा है। वो खुफिया तंत्र जो आतंकी ठिकानों की महीन से महीन बारिकियों पर नजर गड़ाए हैं वो आर्थिक आतंकी नीरव मोदी को या मैहुल चौकसी को या फिर विजय माल्या पर कब सर्जिकल स्ट्राइक करेंगे। बात 23 हजार करोड़ रूपये की है, देश की 10 विधानसभाओं का बजट करोड़ों परियोजनाओं का शिलान्यास हो सकता था। नौनिहालों के लिए लग्जरी स्कूल बन सकते थे, बेहाल दूर-दराज इलाकों में सड़कें और अस्पताल बनाये जा सकते थे। नीरव मोदी लंदन में वेस्टएंड इलाके में रह रहा है और हीरे बेचने की नई दुकान भी खोल ली है, ग्राहक भी आ रहे हैं और हीरे बिक भी रहे हैं। 6 महीने के बाद साल भर पूरा हो जाएगा प्रर्त्यपण का अनुरोध ब्रिटेन के अधिकारियों के सामने प्रवतन निदेशालय कहता है हमने अपना काम कर दिया, अब जो कुछ करना है ब्रिटेन को करना है। सेंट्रल लंदन के जिस अपार्टमेंट में नीरव मोदी रहता है वो 3 बीएचके है, जिसका किराया 17 हजार डॉलर प्रति महीना है। इतने में तो मुंबई की धारावी की झुग्गी-झौंपड़ियों में रहने वाले लोग सालों फ्लैट में रह सकते हैं।

सरकार कह रही है और सरकार के विदेशी मंत्रालयों के प्रवक्ता कह रहे हैं कि हम अभी इतनी जल्दी नीरव मोदी को भारत नहीं ला सकते, इसके लिये प्रक्रिया होती है, जो कर रहे हैं और उसी के तहत आएगा। सरकार ने ब्रिटेन को कह तो दिया है, अभी ब्रिटेन से जवाब नहीं आया है। देश का आम नागरिक बोलचाल की भाषा में कहें तो वो मतदाता जिसका वर्ग सबसे ज्यादा है। वोट डालने की लाईन में खड़ा होता है, उसका कहना और मानना है कि पईसो तो म्हारे देश को लूटियो है, ब्रिटेन के बाप गो कांई जावे छै…कान गे नीचे दो रेपटा लगां धर लियावो….।

Tag In

# बेखौफ #द टेलीग्राफ #नरेन्द्रमोदी #नीरव मोदी वांटेड #नीरव-मोदी #ब्रिटेन #भारत सरकार #भारतीय कानून की धज्जियां कांग्रेस बीजेपी योगी रवि शंकर प्रसाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *