परमाणु संचालित पनडुब्बी के लिए भारत- रूस के बीच हुआ समझौता

परमाणु संचालित पनडुब्बी के लिए भारत- रूस के बीच हुआ समझौता

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क अशोक योगी। भारत ने गुरुवार को दस वर्ष की अवधि के लिए भारतीय नौसेना के लिए परमाणु क्षमता से संपन्न हमलावर पनडुब्बी पट्टे पर लेने के लिए रूस के साथ तीन अरब डॉलर का समझौता किया। सैन्य सूत्रों ने यह जानकारी दी।

सूत्रों ने बताया कि दोनों देशों ने कई महीनों तक कीमतों और समझौते के विभिन्न पहलुओं पर बातचीत करने के बाद इस अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए है।

सूत्रों के मुताबिक इस समझौते के तहत रूस अकुला वर्ग के पनडुब्बी को भारतीय नौसेना को 2025 तक सौंपेगा। उन्होंने बताया कि अकुला वर्ग पनडुब्बी को चक्र III नाम दिया गया है। यह भारतीय नौसेना को पट्टे पर दी जाने वाली तीसरी रूसी पनडुब्बी होगी। रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता से जब इस समझौते के बारे में पूछा गया तो उन्होंने प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया।

पहली रूसी परमाणु संचालित पनडुब्बी आईएनएस चक्र को तीन वर्ष की लीज पर 1988 में लिया गया था। दूसरी आईएनएस चक्र को लीज पर दस वर्षों की अवधि के लिए 2012 में हासिल किया गया था। सूत्रों ने बताया कि चक्र II की लीज 2022 में समाप्त होगी, रूस अकुला वर्ग के पनडुब्बी को भारतीय नौसेना को 2025 तक सौंपेगा।

इस सौदे में सीवरोडविंस्क में मोथबॉल की हुई परमाणु नाव, 10 सालों तक इसका निर्वाह और पुर्जे बनाने में सहायता करना, प्रशिक्षण और संचालन के लिए तकनीकी ढांचा शामिल है। यह पनडुब्बी आईएनएस चक्र की जगह लेगी। सूत्रों ने कहा, ‘आईएनएस चक्र की मौजूदा लीज 2025 तक के लिए बढ़ा दी गई है ताकि इस समय तक उससे एडवांस और बड़ी पनडुब्बी को संचालित किया जा सके।

india russia compromises for nuclear powered submarine

Tag In

#india-russia compromises india russia submarine

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *