पाकिस्तान फिर पहुँच गया गुहार लगाने -नहीं आ सकता कभी बाज़!

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। पाकिस्तान अब फिर भारत के अनुच्छेद 370 के मसले को यूएनएचआरसी (संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद ) ले गया। पाकिस्तान ने इतनी बार मुँह की खाने के बावजूद ये समझ नहीं आ रहा है की कश्मीर पर उसका हर पैतरा बेकार है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की जिनेवा में आयोजित बैठक में भारत की ओर से सेक्रेटरी ईस्ट विजय सिंह ने पाकिस्तान के हर बात का करारा जवाब दिया। भारत पाकिस्तान के बीच हुए शिमला समझौते के तहत कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है इसमें कोई तीसरी पार्टी हस्तक्षेप नहीं कर सकती, यूएनओ भी नहीं। इस मसले पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप भी मध्यस्थता की पेशकश कर चुके हैं जिसे भारत ने सिरे से नकार दिया था उसके बाद ट्रंप ने भी माना था की कश्मीर मुद्दा भारत का आतंरिक मामला है।

यूएनएचआरसी भारत की और से जवाब में बताया गया की पाकिस्तान ने सुरक्षा मानवाधिकार में मनगढंत कहानी पेश की है पाकिस्तान का कश्मीर से कोई संबंध नहीं है। भारत ने अपने संविधान के अनुसार ही अनुच्छेद 370 में बदलाव किया है। भारत ने साफ़ किया की उसके आतंरिक मसले पर वह किसी का हस्तक्षेप मंजूर नहीं कर सकता और कश्मीर हमारा आतंरिक मामला है। पाकिस्तान एक आतंकवादी देश है, वह आतंकवाद का केंद्र है और सीमा पार से आतंकवाद का संचालन करता है। वही भारत एक मानवाधिकारों की रक्षा करने वाला देश है। भारत की ओर से कहा गया की पाकिस्तान अपने को पीड़ित दिखा रहा है परन्तु वह खुद मानवाधिकारों का हत्यारा है।

भारत ने सुझाव देते हुए कहा की हमें उन लोगों पर लगाम लगानी चाहिए जो मानवाधिकारों के नाम पर अपना राजनैतिक एजेंडा चला रहे है। पाकिस्तान पीड़ित की तरह रो रहा है वास्तव में वह अपराधी देश है। वह दूसरे देशों के अल्पसंख्यकों के लिए इतना चिंतित दिखाई पड़ता है परन्तु उसके खुद के घर में उसने अल्पसंख़्यकों के हाल बेहाल कर रखे हैं। भारत की और से तथ्य रखा गया की जैसे भारत में अन्य मसलो पर फैसलों की प्रक्रिया है उसी प्रक्रिया से कश्मीर मुद्दे का समाधान किया गया है। अनुच्छेद 370 के हटाने के विषय पर व्यापक समर्थन भी मिला है।

भारत की और से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने से मानवाधिकारों की रक्षा कैसे होगी यह साफ़ किया गया। भारत की ओर से बताया गया की इस फैसले से संपत्ति का अधिकार मिलेगा, स्थानीय निकायों में प्रतिनिधित्व का अधिकार मिलेगा।

Tag In

#अनुच्छेद370 #पाकिस्तान #भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *