पासवान पर नीतीश का वार, बिहार में राजनीति नए सियासी रंग में

लोकसभा 2019,

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजनीति में परिवारवाद और वंशवाद की पैरवी करते हुए राजनीति में इसके खात्मे का बिगुल बजाकर लोकसभा चुनाव से पहले बिहार की राजनीति को नया रंग दे दिया है। सीएम नीतीश कुमार ने हाल ही में बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष डॉ.रामजतन सिन्हा के स्वागत समारोह में आयोजित समारोह में युवाओं से राजनीति में आने का आह्वान किया। साथ ही नीतीश ने बिहार के बड़े राजनीतिक परिवारों पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर युवा राजनीति में कदम नहीं रखेंगे तो यह चंद परिवारों की जागीर बन कर रह जाने वाली है। नीतीश के इस बयान के बाद राजद के अलावा लोक जनशक्ति पार्टी का पारा भी चढ़ना तय है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले नीतीश ने ये बयान देकर बिहार की सियासत में गर्मी को बढ़ा कर रख दिया है।
संघर्ष करने की बजाए पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले युवा ही आगे
बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजनीति में परिवारवाद और वंशवाद को खात्मे की पैरवी करने वाले इस बयान को सीधा आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव के बहाने रामविलास पासवान पर निशाना माना जा रहा है। अगर युवा पीढ़ी आगे नहीं आई तो राजनीति का दायरा संकुचित होकर रह जाएगा। दूसरे दलों में संघर्ष करने की बजाए पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले युवा ही राजनीति में मुकाम हासिल करते हैं। आमतौर पर देखा जाता है कि संघर्ष के जरिए ऊंचा मुकाम हासिल कर लेने वाला व्यक्ति अपने बीते दिनों को भूल कर सबकुछ अपने ही कब्जे में ले लेना चाहता है। ताकि अपने बच्चों को आगे बढ़ा सके। साथ ही इस अवसर पर सीएम नीतीश ने चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि राजनीति में परिवारवाद की वजह से साधारण परिवार के लोगों का राजनीति में आना दूभर हो जाएगा। बयान के बाद लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बिहार की राजनीति में नया सियासी उबाल ला दिया है।
लालू प्रसाद-पासवान परिवार की राजनीति में पकड़
बिहार की राजनीति में लालू प्रसाद यादव बड़ा नाम माना जाता है। आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद चारा घोटाले को लेकर जेल में बंद है। जेल में बंद होने के बावजूद पार्टी अध्यक्ष पद पर काबिज लालू प्रसाद यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी विधान परिषद की सदस्य होने के अलावा आरजेडी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष है। वहीं लालू यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती राज्यसभा सदस्य हैं तो बड़ा बेटा तेजप्रताप यादव महुआ से और छोटा बेटा तेजस्वी यादव राघोपुर से विधायक हैं। और तो और विधायक तेजस्वी यादव विधानसभा में विपक्ष के नेता भी हैं। वहीं बात की जाए लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान की तो इनका भी पूरा परिवार राजनीति में सक्रिय है। पासवान के भाई रामचंद्र पासवान लोकसभा सांसद हैं तो वहीं पुत्र चिराग भी लोकसभा सदस्य है। पासवान के दूसरी भाई पशुपति कुमार पारस अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के अलावा बिहार की नीतीश सरकार में पशु व मत्स्य संसाधन मंत्री भी हैं।
नीतीश कुमार ने जदयू को बताया परिवारवाद से मुक्त
बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष डॉ.रामजतन सिन्हा के स्वागत समारोह में आयोजित समारोह में बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजनीति में से परिवारवाद और वंशवाद को खत्म करने की जमकर पैरवी की और युवाओं को राजनीति में आने के लिए अपील की। साथ ही सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार की जनता ने जब से हमें सेवा करने का मौका दिया है, तभी से हालात बदलते चले गए हैं। लालू प्रसाद की पार्टी को निशाने पर लेते हुए कहा कि पहले लोग अंधकार में बच्चों को घर से बाहर निकलने से रोकने के लिए भूत का डर दिखाते थे। आज तो गांव-गांव में इतनी बिजली आ गई है जिससे भूत से साथ-साथ लालटेन का भी सफाया हो गया है। अपनी पार्टी की तारिफ में नीतीश बोले कि जदयू ही अलग तरह की पार्टी है जहां परिवारवाद के लिए कोई स्थान नहीं है। हमारी पार्टी जदयू में परिश्रम को ही प्राथमिकता दी जाती है न की किसी परिवार को।

Tag In

#पासवान डॉ.रामजतन सिन्हा नीतीश कुमार परिवारवाद लालू प्रसाद यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *