Uttar-pradesh map

पिछली लोकसभा चुनाव में यूपी में मॉइनारिटी कैंडीडेट्स का नहीं खुला था खाता

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज। देवेन्द्र कमार। पिछली बार लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश से एक भी मुस्लिम प्रत्याशी को जीत नहीं मिल पाई थी। जबकि उत्तर प्रदेश में 3.84 करोड़ मुसलमान मतदाता हैं। जो सूबे की कुल आबादी की 19 फीसदी हिस्सा है। 21 जिले तो ऐसे हैं जहां पर 20 फीसदी से अधिक मुस्लिम लोग रहते हैं। 143 विधानसभा सीट मुस्लिम बाहुल्य सीट हैं। अब चुनावों की तारीखें पास आ गई हैं तो यह सवाल उठता है कि आखिर इस बार कौन मुस्लिम प्रत्याशी यूपी से संसद तक जाने में सफल रहेगा। पिछले लोकसभा चुनाव में हारने वाले मुस्लिम प्रत्याशियों में कुछ तो बेहद कम अंतर से हारे थे।

मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में भी नहीं जीत पाए मुस्लिम नेता

यूपी की रामपुर सीट पर 50.57 फीसदी, मुरादाबाद सीट पर 47.12 फीसदी, बिजनौर सीट पर 43 फीसदी, मुजफ्फरपुर और सहारनपुर सीट पर 42 फीसदी मुस्लिम मतदाता हैं। इसके बावजूद भी पिछले लोकसभा चुनाव में कई बड़े मुस्लिम नेताओं को भी करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था। मुजफ्फरनगर सीट की बात करें तो इस सीट पर बसपा प्रत्याशी कादिर राणा को भाजपा के संजीव बालियान ने चार लाख से ज्यादा वोटों से हराया था। इसी तरह देवरिया में कलराज मिश्र ने बसपा के नियाज अहमद को 2.65 लाख वोटों से शिकस्त दी थी। बरेली में भाजपा के संतोष गंगवार ने सपा की आयशा इस्लाम को हराया था तो कैराना में हुकुम सिंह ने सपा के नाहिद हसन को शिकस्त दी थी। मेरठ सीट की बात की जाए तो भाजपा के राजेंद्र अग्रवाल ने बसपा के मोहम्मद शाहिद इखलाक को 2.32 लाख वोटों से हराया था। इसी तरह बागपत में भाजपा प्रत्याशी सत्यपाल सिंह ने सपा के गुलाम मोहम्मद को और बिजनौर में भाजपा प्रत्याशी कुंवर भारतेंदु ने सपा के शाहनवाज राणा को मात दी थी। इसके अलावा फतेहपुर में भाजपा की साध्वी निरंजन ज्योति ने बसपा के अफजल सिद्दीकी, प्रतापगढ़ में अपना दल के कुंवर हरिवंश सिंह ने बसपा के आसिफ निजामुद्दीन सिद्दीकी, अमरोहा में भाजपा के कंवर सिंह तंवर ने सपा की हुमैरा अख्तर, धौरहरा में भाजपा की रेखा वर्मा ने बसपा के दाऊद अहमद, डुमरियागंज में भाजपा के जगदंबिका पाल ने बसपा के मोहम्मद मुकीम, बहराइच में भाजपा के टिकट पर सावित्री बाई फुले ने सपा के शब्बीर अहमद, श्रावस्ती में भाजपा के दद्दन मिश्रा ने सपा के अतीक अहमद, सहारनपुर में भाजपा के राघव लखनपाल ने कांग्रेस के इमरान मसूद, सीतापुर में भाजपा के राजेश वर्मा ने बसपा की कैसर जहां और संभल में भाजपा के सत्यपाल सिंह ने सपा के शफीकुर्रहमान बर्क को हराया था।

25 सीटें हैं मुस्लिमों का गढ़

सूबे में 25 सीटें ऐसी हैं जो मुस्लिम बाहुल्य सीट हैं। इसमें से अधिकांश सीटों पर सपा-बसपा का गठबंधन है। इन सीटों पर कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए है। सपा-बसपा सीटों पर गठबंधन की बात करें तो 25 सीटों में 13 सीटें बसपा जबकि 12 सपा के खाते में आई है। इसके अलावा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने भी कई मुस्लिम नेताओं को यहां से टिकट दिया है। बसपा के हिस्से में आगरा, अलीगढ़, कैसरगंज, सहारनपुर, गाजीपुर, अमरोहा,सलेमपुर, मेरठ, फतेहपुर सीकरी, जौनपुर, घोसी व भदोही आई हैं जबकि सपा के हिस्से में बहराइच, मुरादाबाद, आजमगढ़, लखनऊ, बरेली, बदायूं, चंदौली, फिरोजाबाद, रामपुर, संभल और कन्नौज हैं।

इस बार भी कई मुस्लिम नेता है दौड़ में शामिल

इल बार के लोकसभा चुनाव में कई मुस्लिम प्रत्याशी एक बार फिर चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आजमाएंगे। इनमें से कई कद्दावर नेता हैं। अब तक घोषित प्रत्याशियों में बसपा ने सहारनपुर से हाजी फजलुर्रहमान को टिकट दिया है तो कांग्रेस ने इमरान मसूद पर फिर भरोसा जताया है। मुरादाबाद में सपा ने पहले नासिर कुरैशी को टिकट दिया था जिसे बदलकर अब टीके हसन को दिया गया है। यहां कांग्रेस की ओर से मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी प्रत्याशी बनाए गये हैं। कैराना में तबस्सुम हसन सपा के टिकट पर मैदान में हैं तो बिजनौर से कांग्रेस के नसीमुद्दीन सिद्दीकी चुनाव लडऩे जा रहे हैं। संभल से एक बार फिर सपा के शफीकुर्ररहमान चुनाव लडऩे जा रहे हैं। इसी तरह अमरोहा में बसपा के कुंवर दानिश अली, मेरठ में बसपा के हाजी मोहम्मद याकूब कुरैशी, सीतापुर में कांग्रेस से कैसर जहां, बदायूं में कांग्रेस के सलीम इकबाल शेरवानी, लखीमपुर खीरी में कांग्रेस के जफर अली नकवी, संतकबीरनगर में कांग्रेस के परवेज खान चुनाव लडऩे जा रहे हैं।

Tag In

#loksabh-2019 #loksabha-chunav #loksabha-saabha-chunav #loksabhachunav2019 #up news hindi up मुस्लिम नेता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *