पीएम मोदी को शांति और निष्पक्षता के साथ मामलें को देखना चाहिये : राहुल गांधी

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क, चंदना पुरोहित। अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद पहली बार विपक्ष के नेता कश्मीर जाएंगे। राहुल गाँधी के साथ विपक्ष के और भी 11 नेता कश्मीर पहुंचेंगे। ‘कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से हिंसा की खबरें आ रही हैं। प्रधानमंत्री को शांति और निष्पक्षता के साथ मामले को देखना चाहिये।’यह राहुल गाँधी के शब्द हैं जो उन्होंने कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद ट्वीट किए थे। जब की खबरें यह बताती है की कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद कश्मीर में कोई हिंसा की घटना नहीं हुई है।

फिर भी राहुल गाँधीजी को खबर मिल रही है की कश्मीर में हिंसा की घटना हो रही है। राहुल गाँधी के ट्वीट का पर जवाब देते हुए कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने ट्वीट किया था की,’मैं राहुल गांधीजी को कश्मीर आने का निमंत्रण देता हूँ। मैं उनके लिए एयरक्राफ्ट का भी इंतजाम करूँगा ताकि वह यहाँ आकर जमीनी हकीकत देख संके’. सत्यपाल मलिक ने ट्वीट कर राहुल गाँधी को चुनौती दी थी की वह कश्मीर आकर देखे की यहाँ कहा हिंसा हो रही है। इस के बाद राहुल गाँधी ने ट्वीट कर चुनौती स्वीकार की थी।

राहुल गाँधी आज कश्मीर जाएंगे। हालाकि प्रशासन ने विपक्ष के नेताओं को कश्मीर ना जाने की अपील की है। प्रशासन ने कहा है की नेता कश्मीर के प्रशसन में सहयोग करे। प्रशासन का कहना है की नेताओं के आने से असुविधा होगी। नेताओं को शांति बनाए रखने और नुकसान रोकने को सबसे जरुरी समझना चाहिए। विपक्षी नेता उन सुविधाओं का उपयोग भी करेंगे जिन पर अब भी पाबंदी लगी हुई है।

Tag In

#अनुच्छेद_370 #कश्मीर #राहुल_गांधी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *