election commision & Mob lynching

फिल्मकारों, लेखकों के बाद अब वैज्ञानिकों ने कहा कि मॉब लिंचिंग से जुड़े लोगों को वोट मत करना

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज। देवेन्द्र कुमार। देश के 150 से अधिक वैज्ञानिकों ने अपील की है कि मॉब लिंचिंग (भीड़ द्वारा हत्या) से जुड़े लोगों को वोट न दें। इसके साथ ही उन्होंने निवेदन किया कि इस बार असमानता, भेदभाव और डर के माहौल के खिलाफ वोट करें। अगर द हिंदू की बात माने तो इनमें इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (आईआईएसईआर), इंडियन स्टैटिकल इंस्टीट्यूट (आईएसआई), अशोका यूनिवर्सिटी और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के वैज्ञानिक शामिल हैं।

जानिए क्या कहा वैज्ञानिकों

वैज्ञानिकों ने अपने बयान में कहा कि , ‘हमें ऐसे लोगों को खारिज करना चाहिए जो लोगों को मारने के लिए उकसाते हैं या उन पर हमला करते हैं। जो लोग धर्म, जाति, लिंग, भाषा या क्षेत्र विशेष के कारण भेदभाव करते हैं।’ साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि मौजूदा हालात में वैज्ञानिक, कार्यकर्ता और तर्कवादी लोग घबराए हुए हैं। असहमति रखने वाले लोगों को प्रताड़ित करना, जेल में बंद करना, हत्या कर देना जैसी घटनाएं हो रही हैं। वैज्ञानिकों ने मतदाताओं से अपील करते हुए कहा कि ऐसे माहौल को खत्म करने के लिए सोच-समझकर अपने मताधिकार इस्तेमाल करें।

इससे पहले भी 100 से अधिक फिल्म निर्माता और 200 से अधिक लेखक भी मतदाओं को कर चुके हैं जागरूक

आपको बता दें कि इससे पहले भी 100 से अधिक फिल्मकारों और 200 से अधिक लेखकों ने भी देश में नफरत की राजनीति के खिलाफ मतदान करने की अपील कर चुके हैं। भारतीय लेखकों के संगठन इंडियन राइटर्स फोरम की ओर से जारी अपील में लेखकों ने लोगों से विविधता और समान भारत के लिए वोट करने की अपील की। इन लेखकों में बाम, नयनतारा सहगल, टीएम कृष्णा, गिरिश कर्नाड, अरुंधती रॉय, अमिताव घोष, विवेक शानभाग, जीत थायिल, के सच्चिदानंदन और रोमिला थापर का नाम शामिल है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘लेखक, कलाकार, फिल्मकार, संगीतकार और अन्य सांस्कृतिक कलाकारों को धमकाया जाता है, उन पर हमला किया जाता है और उन पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है। अगर कोई सत्ता से सवाल करता है तो उसे प्रताड़ित किया जाता है या झूठे और मनगढ़त आरोपों में गिरफ्तार कर लिया जाता है।’

Tag In

#election 2019 #election commision #loksabh-2019 #Loksabha Elections 2019 #loksabha-chunav #loksabha-saabha-chunav #loksabhachunav2019 #Mob lynching

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *