बालोतरा हादसा: रामकथा के दौरान हुए हादसा में 15 लोगों की मौत, मृतकों के लिए सीएम गहलोत ने की ये घोषणा

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज डेस्क,अशोक योगी। बाड़मेर के बालोतरा मुख्यालय से दस किलोमीटर दूर जसोल गांव के हाईस्कूल में रविवार को रामकथा के दौरान तेज आंधी से पांडाल हवा में उड़कर लोगों पर गिर गया, जिससे अब तक 15 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 70 से अधिक लोग घायल हो गए है। हादसे के समय पांडाल में करीब 1500 लोग थे। इन मृतकों में छह लोग जसोल गांव के ही है, शेष अन्यत्र से कथा सुनने आए थे। रेत का बवंडर अचानक आकर घुसने से पांडाल गिरा और फिर पांडाल में लगे बिजली के तारों से करंट दौडऩे से लोग चपेट में आए। लोगों ने दौड़कर जान बचाई। बड़े हादसे से छोटे कस्बे में कोहराम मच गया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सोमवार को बाड़मेर के बालोतरा पहुंचे। यहां रविवार को रामकथा के दौरान हुए हादसे के मृतकों के घर पहुचे और परिजनों को सांत्वना दी। इस मौके पर सीएम ने मृतकों के आश्रितों को 5-5 लाख रु. और घायलों को 2-2 लाख की सहायता राशि देने का निर्णय किया था।

जसोल के हादसे पीड़ितों के घर पहुंचकर हादसे में मृतकों को श्रद्धांजलि दी एवं शोकाकुल परिजनों को ढांढस बंधाया। यह बेहद दुखद घटना है, हम सभी इस कठिन समय में प्रभावित परिवारों के साथ हैं। ईश्वर से प्रार्थना है उन्हें सम्बल दें, दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करें।

प्रत्याक्षियों ने बताया हा​दसा था दिल दहलाने वाला

प्रत्यक्षदर्शी देवाराम का कहना है कि हादसा दिल को दहला गया। हमने लोगों को करंट से मरते देखा है। लोगों में भगदड़ की स्थिति हो गई। चाहते हुए भी हम बचा नहीं पाए। महिलाओं की संख्या अधिक है। पांडाल में आगे बैठे कई लोग तो निकल ही नहीं पाए। कथा कर रहे महाराज ने लोगों को सावचेत किया, तब तक कई लोग खड़े हो गए। लेकिन बुजुर्ग तुरंत उठ नहीं पाए। ऐसे में वे दब गए और हम उनको पोल के नीचे दबे होने पर बचा नहीं पाए।

Tag In

#Ashok_gehlot #LATESTHINDINEWS #पांडाल #बाड़मेर #बालोतरा #रामकथा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *