भाजपा उम्मीदवार संबित पात्रा भगवान जगन्नाथ की मूर्ति के सहारे, फिर भी पड़ गया मंहगा

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क अशोक योगी। भाजपा के प्रवक्ता और पुरी लोकसभा सीट से भाजपा पार्टी उम्मीदवार संबित पात्रा को भगवान जगन्नाथ की मूर्ति का सहारा लेना महंगा पड़ गया। जगन्नाथ की मूर्ति के साथ रैली करना संबित पात्रा को उस समय महंगा पड़ा गया जब अपनी गाड़ी में भगवान की मूर्ति रख रखी थी। जिसको लेकर मंदिर के सेवकों और कांग्रेस ने जमकर विरोध किया है। मंगलवार को कांग्रेस की शिकायत के बाद मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि संबित पात्रा ने सियासी फायदे के लिए भगवान जगन्नाथ की मुर्ति का प्रयोग किया है। यह चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। मंदिर के वरिष्ठ सेवक रामचंद्र दशमोहापात्र ने कहा कि यह ओडिशा की संस्कृति के खिलाफ है।

भगवान के प्रति आस्था दिखाना कुछ गलत नहीं

इधर, भाजपा उम्मीदवार संबित पात्रा ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि रैली के दौरान उन्हें किसी ने भगवान जगन्नाथ की मूर्ति तोहफे में दी थी और उन्होंने केवल उनका मान रखा था। भगवान के प्रति आस्था दिखाने में कुछ गलत नहीं है. दूसरे क्या कह रहे हैं, मुझे इसकी चिंता नहीं है. इसे चुनाव के साथ न जोड़ें।’ उधर, मंदिर सेवक दशमोहापात्र ने कहा, ‘चुनावी रैली के दौरान भगवान जगन्नाथ को वाहन में ले जाना संस्कृति और परंपरा के खिलाफ है, वार्षिक रथ यात्रा महोत्सव के दौरान भगवान जगन्नाथ रथ की रथ यात्रा निकाली जाती है।

चुनावी रैली के दौरान हाथ में थी भगवान जगन्नाथ की मूर्ति

मुख्य चुनाव अधिकारी को शिकायत करते हुए कांग्रेस ने कहा है कि ‘एक चुनावी रैली में संबित पात्रा ने हाथ में भगवान जगन्नाथ की मूर्ति पकड़ी हुई थी और वह उसे दिखा रहे थे, इसके बाद उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया अकाउंट पर भी शेयर की गईं। वही प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता निशिकांत मिश्रा ने बताया है कि ‘चुनाव आयोग कहा था कि किसी जाति, धर्म, पंथ और संस्कृति के आधार पर कोई चुनाव नहीं लड़ा जाएगा। संबित पात्रा की रैली और उसकी तस्वीरों में साफ चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन दिखाई दे रहा है।’

गौरतलब है कि भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा को हाल ही मध्य प्रदेश हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली थी। मध्य प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने 27 अक्टूबर को भोपाल के एमपी नगर स्थित प्लॉट नम्बर 1 में पत्रकारवार्ता की थी। पत्रकारवार्ता के लिए दोपहर एक से तीन बजे तक का समय निर्धारित था। उन्होंने निर्धारित समय से पूर्व 12.30 बजे ही पत्रकारवार्ता शुरू कर दी थी। निर्धारित समय से पूर्व पत्रकारवार्ता शुरू करने को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए निर्वाचन अधिकारी ने उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाई थी।

Tag In

#जगन्नाथ की मूर्ति #नरेन्द्रमोदी #निशिकांत मिश्रा #पत्रकारवार्ता #पीएम मोदी #मंदिर के सेवकों #रामचंद्र दशमोहापात्र #संबित पात्रा कांग्रेस बीजेपी लोकसभा चुनाव 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *