cr

भारत एक्शन मोड में, J&K में 100 सुरक्षा बल कंपनी तैनात

एयर स्ट्राइक,

ले पंगा न्यूज़ डेस्क, तीर्थराज । पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत आतकं को पनाह देने वाले पाकिस्तान को कड़ा जवाब देने के लिए एक्शन मोड में है। भारत-पाक सीमा पर भी तनावपूर्ण स्थिती बनी हुई है, जिसके चलते पाकिस्तान के होश उड़े हुए हैं और वह युद्ध की आंशका से ग्रस्त हो डरा हुआ है। शुक्रवार देर रात अलगाववादी नेता यासीन मलिक की गिरफ्तारी के बाद घाटी में तनाव और ज्यादा बढ़ गया। इस पर जम्मू-कश्मीर में भारत सरकार की ओर से तुरन्त आदेश जारी कर अर्द्धसैनिक बलों की 100 कंपनी की तैनाती की गई है। अचानक सुरक्षा बलों की एक साथ इतनी टुकड़ियों की जम्मू-कश्मीर में तैनाती को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही है, वहीं अब पाकिस्तान का खौफ अब और बढ़ने वाला है।

भारत सरकार की इस कार्रवाई का दूसरा पहलू यह भी है कि आगामी 25-26 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35 A पर आने वाले फैसले को देखते हुए एतिहातन अलगाववादी नेताओं की गिरफ्तारी की कार्रवाई कर रही है क्योंकि, यदि सुप्रीम कोर्ट में इसे हटाने या फिर बदलाव की बात कही जाती है तो घाटी में बवाल हो सकता है।

गृह मंत्रालय ने फैक्स जारी कर दिया तत्काल तैनाती का आदेश

शुक्रवार देर रात अलगाववादी नेता यासिन मलिक सहित करीब दर्जन भर लोगों की गिरफ्तारी के बाद जम्मू-कश्मीर में तनाव बढ़ गया था, जिसके बाद भारत सरकार ने बड़ी संख्या में अर्द्ध सैनिक बलों की टुकड़ियों की जम्मू-कश्मीर में तैनाती के आदेश जारी कर दिये। जानकारी के अनुसार गृह मंत्रालय ने अर्जेट नोटिस जारी कर सीआरपीएफ की 35, बीएसएफ की 35 एसएसबी की 10 और आईटीबीपी की 10 टुकड़ियों को कश्मीर घाटी में तैनात करने के आदेश दिया है। गृह सचिव, मुख्य सचिव और डीजीपी को गृह मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को भेजे गए फैक्स में कहा गया है कि घाटी में तत्काल प्रभाव से इन अर्द्ध सैनिक बलों की तैनाती की जाये। बता दें कि अलगाववादी नेताओं की गिरफ्तारी और बढ़ाई गई अर्द्ध सैनिक बलों की टुकड़ियां कहीं ना कहीं घाटी में कुछ बड़ी कार्रवाई की ओर इशारा करती है कि आने वाले दिनों में सूबे में बड़ा घटनाक्रम हो सकता है

अलगाववादी नेता की गिरफ्तारी के बाद बढ़ी हलचल

पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में अंजाम दिये गये फिदायीन आतंकी हमले के बाद से ही सुरक्षा एजेंसियों की सक्रियता घाटी में बढ़ गई है। भारत सरकार ने भी एक्शन मोड में काम शुरू करते हुए सेना को खुली छुट देने की बात कही है। वहीं हाल ही में जैश के आतंकियों को खत्म करने के बाद सुरक्षा एजंसियों घाटी में सक्रिय हमले में शामिल लोगों का डाटा खंगालने में जुटी है तो वहीं शुक्रवार देर रात यासीन मलिक की गिरफ्तारी के साथ दर्जन भर अन्य अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार किया गया था, जिसमें जमात-ए-इस्लामी अलगाववादियों का प्रमुख अब्दुल हामिद फैयाज भी शामिल है। गौरतलब है कि हाल ही में भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर के कई अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटाने का निर्णय लिया गया था।

Tag In

#attack attack in india army attack in jammu crpf crpf attack crpf in india indian army jammu& kasmir pulwama pulwama attack in india

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *