parika

मनोहर पर्रिकर नहीं रहे, 63 की उम्र में ली अंतिम सांस

लोकसभा 2019,

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का 63 की उम्र में शनिवार को निधन हो गया. पर्रिकर लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. वह पैनक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे थे. राष्‍ट्रपति ने ट्वीट कर उनके निधन की जानकारी दी. इससे पहले खबर आई थी कि उनकी सेहत बेहद गंभीर हैं और डॉक्‍टर पूरी ताकत लगा रहे हैं.

उन्‍होंने अमेरिका, दिल्‍ली और गोवा में कैंसर का इलाज कराया. अपने आखिरी दिनों में भी पर्रिकर काम में लगे रहे. बीमारी के दिनों में ही उन्‍होंने गोवा का बजट पेश किया और राज्‍य का काम बखूबी संभाला.

पर्रिकर को 31 जनवरी को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था. हाल ही में बीमार मुख्यमंत्री ने 3 मार्च को गोवा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जीएमसीएच) में चेक-अप कराया था. फरवरी में पर्रिकर का जीएमसीएच में एक ऑपरेशन भी हुआ था.

कुछ दिनों पहले गोवा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर और बीजेपी विधायक माइकल लोबो ने बयान दिया था कि मनोहर पर्रिकर बहुत बीमार हैं. लोगों को समझना होगा कि उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है. लोबो ने कहा कि पर्रिकर को जो बीमारी हुई है, उसका कोई इलाज नहीं है. भगवान की कृपा से वह अब भी जीवित हैं. भगवान ने उन्हें काम करने का आशीर्वाद दिया है.

गौरतलब है की इस साल 30 जनवरी को मनोहर पर्रिकर ने नाक में ट्यूब लगाकार गोवा का बजट पेश किया था. इस दौरान उन्होंने कहा था, ‘आज मैं एक बार फिर वादा करता हूं कि मैं पूरी ईमानदारी, निष्ठा और समर्पण के साथ और अपनी अंतिम सांस तक गोवा की सेवा करूंगा. मुझमें काफी जोश है और मैं पूरी तरह होश में हूं.’

देश के पूर्व रक्षामंत्री और गोवा के वर्तमान सीएम मनोहर पर्रिकर कैंसर से पीड़ित थे. लंबे वक्त से उनका इलाज चल रहा था.

मनोहर पर्रिकर गोवा के सबसे चहेते बेटे थे, पार्टी लाइन से उठकर सम्मान व्यक्त करता हूं: राहुल गांधी

गोवा के मुख्यमंत्री का रविवार को यहां निधन हो गया। उन्होंने पणजी के समीप स्थित अपने निजी आवास पर अंतिम सांस ली। वह एडवांस्ड पैंक्रियाटिक कैंसर से पिछले एक साल से जूझ रहे थे। गोवा CM मनोहर पर्रिकर मनोहर पर्रिकर के निधन पर श्रद्धांजलि देने के लिए कल सुबह 11 बजे केंद्रीय कैबिनेट की बैठक होगी। कांग्रेस अध्यक्ष ने उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि मनोहर पर्रिकर गोवा के सबसे चहेते बेटे थे। पार्टी लाइन से उठकर सम्मान व्यक्त करता हूं।

पूर्वी यूपी की कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गोवा CM मनोहर पर्रिकर के निधन पर दुख जताया।

पर्रिकर एडवांस्ड पैंक्रियाटिक कैंसर से ग्रस्त थे, जिसका पता पिछले साल फरवरी में चला था। उसके बाद उन्होंने गोवा, मुंबई, दिल्ली और न्यूयॉर्क के अस्पतालों में इलाज कराया। रविवार को मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया कि पर्रिकर की हालत बेहद नाजुक है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पर्रिकर के निधन पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर के निधन की खबर सुनकर अत्यंत दुखी हूं। सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी और निष्ठा के एक प्रतीक के रूप में गोवा और भारत के लोगों के लिए उनकी सेवा को भुलाया नहीं जाएगा।”

पर्रिकर देश के पहले IITian थे जो MLA बने, साइकिल से पहुंचते थे असेंबली !

“एक आतंकवादी जो बंदूक लेकर भारत आ रहा है, उसे यहां मानव अधिकारों की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। जरूरत पड़ी तो हम आतंकवादियों को आतंकवाद से ही बेअसर करेंगे। 13 लाख की हमारी सेना शांति का प्रचार करने के लिए नहीं है। ”ये शब्द भारत पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के शब्द हैं। गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर भले आज हम लोगों के बीच नहीं हैं लेकिन उनके विचार और उनके फैसले हमेशा देश के साथ रहेंगे। अपने तेज तर्रार और निर्णायक फैसलों के लिए जाने जाने वाले मनोहर पर्रिकर की गिनती भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता के रूप में की जाती है। मोदी कैबिनेट में सबसे सक्रिय मंत्रीउन्होंने 2000-05 और 2012-14 तक गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में भी कार्य किया। वर्तमान में वह उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के सदस्य थे। उन्होंने 1978 में IIT बॉम्बे से धातुकर्म इंजीनियरिंग में स्नातक किया। उन्हें 2001 में IIT बॉम्बे द्वारा प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पर्रिकर मोदी कैबिनेट में सबसे सक्रिय और अग्रिम मंत्रियों में से एक साबित हुए हैं। साइकिल से विधानसभा पहुंचते थे पर्रिकरउन्होंने राफेल सौदे को प्राप्त किया जो लगभग एक दशक तक गहरे फ्रीज में था। उन्होंने अपनी नो-इमेज को रक्षा मंत्रालय तक पहुंचाया है, यही वजह है कि पूरे विभाग की दक्षता काफी बढ़ गई है। मनोहर पर्रिकर अपनी साइकिल से गोवा विधान सभा की सेर करने के लिये जाने जाते थे। उन्होंने मुख्यमंत्री बनने के बाद सभी सरकारी लाभों से इनकार कर दिया। वह किसी भारतीय राज्य के मुख्यमंत्री बनने वाले पहले IITian हैं। वह सबसे प्रमुख IITians में से एक है जो राजनेता बन गए।

Tag In

#गोवा #प्रियंका गाँधी #बसपा #मनोहर पर्रिकर #शिवसेना #सपा कांग्रेस मोदी राहुल गाँधी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *