reshmi

मायानगरी की पहली स्टंट वूमेन रेशमा पठान, कास्टिंग काउच व लैंगिग समानता पर कही ये बात

फिल्म,

ले पंगा न्यूज़ डेस्क, प्रियंका शर्मा । फिल्म फिल्मी जगत में टेलैंट की कभी कोई कमी नहीं रही है और इस इंडस्ट्री में एक ऐसी ही शख्स है रेशमा पठान। रेशमा पठान को इंडियन फिल्म इंडस्ट्री की पहली स्टंट वुमेन के तौर पर जाना जाता है. रेशमा ने फिल्म शोले में हेमा मालिनी की बॉडी डबल के तौर पर खतरनाक स्टंट किए थे. इसके अलावा उन्होंने श्रीदेवी, डिंपल कपाड़िया और मीनाक्षी शेषाद्री जैसी अदाकाराओं के लिए भी बॉडी डबल का काम किया. रेशमा ने अपने समय में बहुत सी मुश्किलों का सामना किया था उन्होंने अपने ऊपर हुई बदसलूकी को अपने शब्दों में बयां किया।

परिवार का पेट पालने को 14 की उम्र में शुरू किया था स्टंट

बॉलीवुड में लंबे वक्त तक काम करने वाली रेशमा का मानना है कि, “कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सा वक्त चल रहा है. महिलाओं को हमेशा पुरुषों की बदनीयति का सामना करना पड़ा है.”रेशमा पठान ने महज 14 साल की उम्र में स्टंट वुमेन का काम शुरू कर दिया था. यह काम उन्हें परिवार का पेट पालने के लिए करना पड़ा.. मीडिया एजेंसी से एक बातचीत में उन्होंने कास्टिंग काउच को लेकर अपनी आपबीती सुनाई. रेशमा से जब पूछा गया कि प्रोड्यूसर्स और एक्टर्स के द्वारा उनके सामने किस तरह के प्रस्ताव रखे गए, तो 65 वर्षीय रेशमा ने कहा, “शारीरिक तौर पर हालांकि मैं मजबूत थी और किसी को भी मुक्का जड़ सकती थी, लेकिन मुझे मेरा घर चलाना था.” रेशमा ने बताया कि चालाकी से वो इस तरह के प्रस्ताव से बच निकलती थी.

मायानगरी की पहली स्टंट वुमेन-

रेशमा के मुताबिक़, “मैंने कोई समझौता नहीं किया. मैं उन्हें बताती थी कि देखिए मैं आपका सम्मान करती हूं, इसलिए प्लीज ऐसा कुछ भी मत करिए कि मेरी नजर में आपकी इज्जत गिर जाए और मेरे साथ कोई अपमानजनक हरकत मत कीजिए.”बता दे कि,रेशमा उस दौर की महिला हैं जब 1968 में ज्यादातर एक्शन सीन्स पुरुष ही किया करते थे. यहां तक कि एक्ट्रेसेज के एक्शन सीन्स भी पुरुष ही महिलाओं जैसे कपड़े पहन कर किया करते थे.

काम नहीं मिलने की एक वजह जूनियर थी –

रेशमा का कहना है कि यह उनकी गरीबी से लड़ने की जिजीविषा थी जिसने उनकी हिम्मत नहीं टूटने दी. लेकिन पुरुष अधिकृत क्षेत्र में उनकी यह एंट्री बहुत अनैच्छिक थी. उन्होंने कहा, “जाहिर तौर पर अड़चनें थीं, लैंगिक समानता को आज की तरह नहीं ट्रीट किया जाता था. यदि आपके सिर पर जूनियर आर्टिस्ट का ठप्पा लगा हुआ है तो वो आपको एक एक्ट्रेस का रोल तो नहीं देने वाले हैं.”

बॉलीवुड का रवैया दोहरा था मेरे लिए –

रेशमा ने कहा, “किसी लड़की में पास यदि एक अनदेखे रास्ते पर चलने की भूख नहीं है तो वह कुछ अनूठा कैसे कर पाएगी? मैंने एक जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर काम शुरू किया था और उस दौर में हालात उतने फ्लेक्सिबल नहीं थे. मैं वाकई एक्टिंग करना चाहती थी लेकिन जो इकलौता जवाब मुझे मिलता था वो होता था- तुम स्टंट करो ना, तुम एक्टिंग कैसे करोगी? यही लोग मुझसे ये भी कहा करते थे कि तुम कितनी सुंदर हो. ये वही लोग हैं जो आज बिना किसी भेदभाव वाली इंडस्ट्री का जश्न मनाते हैं.

Tag In

# Bollywood News #bollywood bolliwood bollywood news in hindi reshmi pathan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *