संबित पात्रा

मीडिया में बीजेपी को जिताने वाले “पात्र” हारे

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, अशोक योगी। राष्ट्रीय मीडिया में अगर इस बार ओडिशा के किसी लोकसभा उम्मीदवार का सबसे ज्यादा चर्चा हुई हो तो वो थे बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा। एक ओर बीजेपी कई सीटों पर जीतकर बहुमत हासिल करने में कामयाब रही है तो दूसरी ओर बीजेपी के चर्चित नेता संबित पात्रा पुरी लोकसभा सीट से हार गए हैं। उनको बीजू जनता दल के प्रत्याशी पिनाकी मिश्र से 11 हजार वोटों से हरा दिया।

 

बता दें कि संबित न्यूज चैनलों में बीजेपी की ओर से बहस करते नजर आते है। पुरी लोकसभा क्षेत्र से संबित पात्रा बीजेपी के उम्मीदवार थे लेकिन संबित पात्रा यह लड़ाई जीतते-जीतते हार गए। पुरी में लड़ाई बहुत नजदकी रही है। साबित पात्रा कभी आगे निकल जाते तो कभी पिनाकी मिश्रा। आखिरकार पिनाकी को जीत नसीब हुई। और संबित पात्रा को पुरी से तीन मिश्र ने 11714 वोट से हराया है। जिससे पिनाकी चौथी बार संसद पहुंचेंगे।  लेकिन संबित पात्रा ने चुनाव में बीजेपी की लाज नहीं बचा पाए।

कांग्रेस के वोट मिलने के बाद भी हारे पात्रा

गौरतलब है कि 2014 में पिनाकी मिश्र यहां से 263361 वोट से जीत हासिल की थी। 2014 में बीजेपी यहां तीसरी स्थान पर थी लेकिन इस बार जीत के करीब पहुंच गई। संबित पात्रा की हार के पीछे बीजेडी के कोर वोटर हैं जो पिनाकी मिश्र के साथ खड़े रहे। बता दें कि 2014 के लोक सभा चुनाव में पुरी से पिनाकी मिश्र को 523161 वोट पड़े थे।

2019 में 537782 वोट पड़े यानी 2014 से 14621 वोट ज्यादा लेकिन अगर बीजेपी की बात की जाए तो 2014 में बीजेपी को पुरी से 215763 वोट पड़े थे लेकिन इस बार संबित को 524504 वोट पड़े यानी 308741 वोट ज्यादा लेकिन फिर भी संबित हार गए। कांग्रेस के जो वोटर हैं उनका भी वोट संबित पात्रा को मिला। 2014 में पुरी से कांग्रेस को 259800 वोट पड़े थे लेकिन इस बार सिर्फ 44734 वोट मिले यानी 215066 वोट कम. आंकड़े यह साफ कहते हैं कि कांग्रेस के वोट तो संबित को पड़ा है लेकिन इसके अलावा एक भी वोट इधर-उधर से नहीं गया।

जीतने के लिए बदली वेश-भूषा

संबित पात्रा ने पूरी में चुनाव जीतने के लिए जी- जान लगा दी। लेकिन बीजेपी की लाज नहीं बचा पाएं। संबित खुद पुरी के रहने वाले नहीं है लेकिन जब उन्हें पुरी से उम्मीदवार के रूप में घोषित किया गया उनके पास सिर्फ दो महीने का समय मिला था। इतने कम समय में संबित ने लोगों से भावनात्मक रूप से जुड़ने की कोशिश की।

संबित रोज़ सभाएं और रैलियां करते थे। जहां रैली खत्म होती था वहीं सो जाते थे, किसी के भी घर में खाना खा लेते थे। संबित ने साथ-साथ अपनी वेश-भूषा भी बदल डाली। वह रोज़ धोती पहनते थे, चंदन टिका लगाते थे। पुरी में जो तेलुगु वोटर्स हैं उन्हें लुभाने के लिए तेलुगु में भाषण भी देते थे। वह तेलुगु में गाना भी गाने सिख गए थे। संबित ने मीडिया का भी काफी प्रयोग किया था। पहली बार काफी नेशनल मीडिया ओडिशा के किसी लोकसभा उम्मीदवार को कवर करने के लिए पहुंचा था। संबित पात्रा ने पीएम मोदी के नाम से वोट मांग रहे थे। उन्हें पता था पुरी से जीतना इतना आसान नहीं है।

Tag In

#BJP #bjp loksabha #Chowkidar Sambit Patra #lok sabha election 2019 #PMMODI #pmnarendramodi #Sambit Patra #नरेन्द्रमोदी #पीएम मोदी amit shah bjp loksabha-2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *