यदि आप भी करते हैं RTGS और NEFT से पैसा ट्रांसफर तो आपके लिए है खुशखबरी

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज। देवेन्द्र कुमार। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में रेपो रेट में 25 बेसिस पॉइंट की कटौती की है। इसी के साथ रिजर्व बैंक ने बैंको को RTGS और NEFT ट्रांजेक्शन पर लगने वाले चार्ज की भी छुट दी है। बता दें की समीक्षा बैठक के बाद गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया को इस बात की जानकारी दी है।

ग्राहकों को होगा फायदा, एटीएम चार्जेस से मिल सकती है राहत

गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि बैठक में रेपो रेट को 25 बेसिस पॉइंट कम करने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा जो फैसले लिए गए हैं उनमें पहला है कि अब RTGS और NEFT ट्रांजेक्शन पर बैंकों को कोई चार्ज नहीं लगेगा। आरबीआई ने बैंको से यह भी कहा कि बैंक यह फायदा सीधे अपने ग्राहकों तक पहुंचाए। दूसरा जो फैसला है वो यह है कि आरबीआई ने एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी एटीएम चार्जेस और फीस की व्यवस्था का अध्ययन करेगी। इंडियन बैंक एसोसिएशन के सीआईओ इस कमेटी के अध्यक्ष होंगे। कमेटी अपनी पहली बैठक के दो माह के भीतर रिपोर्ट पेश करेगी। इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि अब ग्राहकों को एटीएम से जुड़े अलग-अलग तरह के चार्जेस से राहत दी जा सकती है।

गौरतलब है कि छोटे बचत खाता धारक फंड ट्रांसफर करने के लिए मुख्य रूप से NEFT का सहारा लेते हैं। और जो बड़े बड़े उद्योग घराने, संस्थाएं आदि हैं वो इसके लिए RTGS का उपयोग करते हैं | NEFT के माध्यम से जो भुगतान होता है वो एक समय के बाद होता है लेकिन RTGS के माध्यम से भुगतान तुरंत हो जाता है। इसके अलावा NEFT के माध्यम से आप छोटी राशि भेज सकते हैं। जबकि RTGS के माध्यम से कम से कम 2 लाख रुपये का ट्रांसफर करना जरूरी है।

NEFT के माध्यम से पैसे भेजने के लिए बैंकों में सोमवार से शुक्रवार तक सुबह के 9 बजे से शाम के 7 बजे तकि का समय तय रहता है, जबकि शनिवार के दिन सुबह के 9 बजे से दोपहर के 1 बजे तक पैसे भेजे जा सकते हैं। लेकिन, RTGS प्रणाली से पैसे तुरंत भेज दिए जाते हैं (लेकिन उस दिन बैंक का खुला होना जरूरी होता है)।

Tag In

# ट्रांसफर #IMPS #internet #internetbanking #neft #RTGS #बचत खाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *