युवा वोटरों को लुभाने की कोशिश में है राहुल

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क। विधानसभा चुनाव में किसान कर्जमाफी की घोषणा पर तीन राज्यों की सत्ता में आई कांग्रेस पार्टी मिशन 2019 के लिए युवाओं के एजुकेशन लोन माफ के चुनावी वादे के लिए पूरे जोर से काम कर रही है। कांग्रेस पार्टी नेताओं से मिली जानकारी अनुसार कांग्रेस किसानों के कर्जमाफी और मिनिमम इनकम गारंटी के बाद मध्यम वर्ग को लेकर ठोस कदम उठा रही है। जो परिवारों या युवाओं पहली बार 2019 में वोट कर रहे ऐसे 15 करोड़ युवा वोटरों पर कांग्रेस नजर लगाए बैठी है। कांग्रेस पार्टी का मानना है कि मौजूदा दौर में उच्च शिक्षा महंगी हो रही है ऐसे में मध्यम वर्ग एजुकेशन लोन के सहारे बच्चों को शिक्षा दे रहा है। उन्हें कर्जमाफी देकर बड़ी राहत पहुंचाई जा सकती है। गौरतलब है कि पिछले साल कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेक्यूलर की सरकार ने साथ मिलकर स्टूडेन्ट कर्जमाफी की घोषणा की थी। ‘द प्रिंट’ के मुताबिक कांग्रेस की चुनावी घोषणा पत्र समिति इस बावत मिले सुझावों पर गंभीरता से विचार कर रही है। कांग्रेस नेताओं के मुताबिक से इस तरह के प्रस्ताव पर पार्टी मंथन कर रही है। हालांकि, इस पर अंतिम फैसला कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक में किया जाएगा। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 21 दिसंबर, 2018 तक भारतीय बैंकों ने एजुकेशन लोन के तौर पर कुल 69,100 करोड़ रुपये दिए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष रोजगार को लेकर लगातार युवाओं के पक्ष में पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला साधा रहे है इसलिए बताया जा रहा है कि पार्टी उन वोटरों को रिझाने की भरपूर पहल करेगी जो पहली बार मतदान करेंगे। कांग्रेस ने इसी तरह के लुभावने चुनावी वादों की फेहरिस्त तैयार करने के लिए लोगों से सुझाव मांग रही है। इसके लिए पार्टी ने डेडिकेटेड इंटरैक्टिव वेबसाइट और ई-मेल और व्हाटसअप का सहारा ले रही है। चुनावी घोषणा पत्र बनाने के लिए कांग्रेस ने आर्थिक नीति,  राष्ट्रीय सुरक्षा,  विदेश नीति, किसान और खेतीबारी समेत करीब 20 उप समितियां बनाई गई हैं, जो इन मुद्दों पर ड्राफ्ट कमेटी को सुझाव देगी। उनसे मिले सुझावों पर गौर करने के बाद मेनिफेस्टो कमेटी घोषणा पत्र तैयार किया जाएगा।

Tag In

कांग्रेस कांग्रेस अध्यक्ष राष्ट्रीय सुरक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *