ramcharan

लोकसभा चुनाव 2019: सांसद बोहरा की राह इस बार आसान नहीं

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, प्रीति दादूपंथी। आगामी लोकसभा चुनाव 2019 को देखते हुए सियासी गलियारों की सरगर्मी तेज हो गई है। इसी क्रम में आज हम बात कर रहे है, राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर लोकसभा सीट की। वर्तमान में इस सीट से बीजेपी के रामचरण बोहरा सांसद है। इस चुनाव में कांग्रेस नेता महेश शर्मा और आप के डॉ. वीरेंद्र सिंह को धूल चटाई थी। जिन मुद्दों पर राजस्थान में विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी को शिकस्त मिली उन्हीं मुद्दों पर भाजपा लोकसभा चुनावों में भी उतरेगी और जनता के सामने भी मुद्दों वहीं होंगे। ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि इस बार रामचरण बोहरा के लिए लोकसभा की राह आसान नहीं होगी। दूसरे समीकरण के मुताबिक कांग्रेस के अलावा कोई भी दल भाजपा के मुकाबले में नहीं था और मोदी लहर के दौरान बोहरा ने बाजी मारी थी, लेकिन लोकसभा चुनाव 2019 में यह तस्वीर बदली हुई है।

बोहरा ने चटाई थी धूल

आपको बता दें कि 2014 में जयपुर शहर की लोकसभा सीट पर से बीजेपी के प्रत्याशी रामचरण बोहरा भारी मतों से विजयी हुए थे। इस चुनाव के दौरान बीजेपी प्रत्याशी रामचरण बोहरा के सामने कांग्रेस प्रत्याशी महेश जोशी और आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी डॉ. वीरेंद्र सिंह को भारी बहुमत से हराकर जीत हासिल की थी।

मतदाताओं का आंकड़ा

2014 में जयपुर शहर लोकसभा सीट पर चुनाव के दौरान कुल मतदाताओं का आंकड़ा 19 लाख 57 हजार 820 था। वहीं इस सीट पर 16 प्रत्याशी मैदान में उतरे थे। उन सभी प्रत्याशियों को पछाड़कर रामचरण बोहरा ने 8 लाख 63 हजार 358 वोट मिलने के कारण बड़ी जीत हासिल हुई थी। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के महेश जोशी ने इस चुनाव में सत्ता की कुर्सी को बचाने की पूरी कोशिश की, मगर वे 3 लाख 24 हजार 13 वोटों से ही संतोष करना पड़ा। वहीं आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी डॉ. वीरेंद्र सिंह को मात्र 55 हजार 118 वोट मिले थे।

जीत का प्रतिशत

अगर प्रतिशत के माध्यम से जयपुर शहर लोकसभा सीट के परिणाम की बात करे तो बीजेपी ने 66.47 प्रतिशत मत प्राप्त बड़ी जीत प्राप्त की। वहीं इस चुनाव में दूसरे पायदान पर कांग्रेस को 24.94 प्रतिशत मत मिले थे। तो वहीं आम आदमी पार्टी को 4.24 प्रतिशत वोट मिले थे।

जयपुर की जनता क्या कहती है

शुभम पांडे ने कहा कि लोगों को भाजपा से बड़ी उम्मीद थी साथ ही देश को मोदी जी से भी बड़ी आशाएं थी। वहीं 2014 में बीजेपी का जो घोषणा पत्र सामने आया था उससे लगा कि देश में बदलाव की नई शुरुआत होगी, लेकिन उम्मीदों पर पानी फिर गया। मोदी सरकार ने जो वादे किए थे वो पूरे नहीं किए। इसके चलते इस बार जयपुर शहर की सीट से बीजेपी के उम्मीदवार की जीत की संभावनाएं ही कम है।

पुष्पेंद्र भारद्वाज ने कहना है कि नोटबंदी और जीएसटी जैसे गंभीर पहलू पर जितनी जल्दबाजी दिखाई इससे ज्यादा या वैसी ही जल्दबाजी राम मंदिर मुद्दे पर,धारा 370 और अनुच्छेद 35 A जैसे मुद्दों पर दिखानी चाहिए थी।

Tag In

# रामचरण बोहरा #जयपुर #जीएसटी #डॉ. वीरेंद्र सिंह #नरेन्द्रमोदी #नोटबंदी #पीएम मोदी #महेश जोशी #मोदी लहर #राम मंदिर कांग्रेस बीजेपी लोकसभा चुनाव 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *