विश्व कप 1983: भारत के इस खिलाड़ी को फाइनल में चुना गया था मैच ऑफ़ द मैच

स्पोर्ट्स,

ले पंगा न्यूज डेस्क, धीरज सैन। कपिल देव की कप्तानी में भारतीय टीम ने 1983 का पहला विश्व कप जीतने में कामयाबी हासिल की थी। कपिल बिग्रेड ने अपना पहला विश्व कप उस समय की सबसे खतरनाक और विश्व चैंपियन टीम वेस्टइंडीज को हराकर अपने नाम पहला खिताब दर्ज किया था।

लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान में खेले गए फाइनल मुकाबले में टीम इंडिया के हरफनमौला खिलाड़ी मोहिंदर अमरनाथ ने बैट और बॉल से अपना बेस्ट प्रदर्शन कर टीम को पहला विश्व खिताब जीताने में अहम भूमिका निभाई थी।

गौरतलब है कि लॉर्ड्स के मैदान में खेले गए विश्व कप के खिताबी मुकाबले में कैरेबियाई टीम के कप्तान क्लाइव लॉयड ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला किया। टीम इंडिया ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 54.4 ओवर में 10 विकेट के नुकसान पर 183 का स्कोर खड़ा किया। फाइनल मैच में श्रीकांत ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए। श्रीकांत के बाद मोहिंदर अमरनाथ ने 26 रन बनाए थे।

184 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी कैरेबियाई की टीम 52 ओवर में 10 विकेट के नुकसान पर 140 रन ही बना पाई और 43 रनों के अंतर से ये खिताबी मुकाबला हार गई। वेस्टइंडीज की ओर से विवि रिचर्ड्स ने सबसे ज्यादा 33 रन बनाए थे। इस खिताबी मुकाबले में मोहिंदर अमरनाथ के सामने कैरेबियाई के दिग्गज बल्लेबाज कुछ भी कमाल नहीं कर पाए। अमरनाथ ने अपने 7 ओवर के स्पेल में 12 रन खर्च करके 3 अहम बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई।

मोहिंदर अमरनाथ ने पहले बल्लेबाजी में 26 रन बनाए। उसके बाद गेंदबाजी में चमत्कारी प्रदर्शन कर 3 विकेट लिए। अमरनाथ को उनके हरफनमौला प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ़ द मैच का अवॉर्ड दिया गया था।

Tag In

#1983worldcup #HINDINEWS #India #indvswi #latestsportnews #MohinderAmarnath #westindies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *