srilanka attack

श्रीलंका के राष्ट्रपति सिरिसेना ने हमलें को लेकर कही ये बड़ी बात, पुलिस प्रमुख ने दिया इस्तीफा

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज। देवेन्द्र कुमार। श्रीलंका में हाल ही में हुए आतंकी हमलों को लेकर श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने बड़ी बात कही है। सिरिसेना ने शुक्रवार को इस बात को स्वीकार किया कि एक मित्र देश ने इस संबंध में पहले ही इंटेलिजेंस रिपोर्ट भेज दी थी। लेकिन सुरक्षा अधिकारियों ने इस रिपोर्ट को उन तक नहीं पहुंचाया। राष्ट्रपति के द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद श्रीलंका पुलिस प्रमुख पुजीत जयसुंदरा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

गौरतलब है कि राष्ट्रपति सिरीसेना ने गुरुवार को रक्षा सचिव हेमसिरी फर्नांडो और पुलिस प्रमुख पुजीत जयसुंदरा से इस्तीफे की मांग की थी। श्रीलंका सरकार ने भी इस बात को स्वीकार किया था कि खुफिया सूचना के बाद भी इस तरह के आतंकी हमले का होना सुरक्षा में बड़ी चूक थी।

भारत ने सौंपी थी रिपोर्ट

उल्लेखनीय हैं कि श्रीलंका में बीते दिनों हुए सिलसिलेवार बम धमाकों से पहले ही भारत ने इस संबंध में इंटेलिजेंस रिपोर्ट श्रीलंका को भेज दी थी। भारत की ओर से भेजी गई इस रिपोर्ट में श्रीलंका में आतंकवादी घटना को अंजाम दिए जाने के बारे में स्पष्ट संकेत थे। राष्ट्रपति सिरिसेना ने कहा कि गृह युद्ध के बाद सैन्य खुफिया अधिकारियों पर चले मुकदमे के कारण देश की राष्ट्रीय सुरक्षा भी कमजोर हुई है। सरकार को ईस्टर के मौके पर हुए आतंकी हमलों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने यह भी बताया कि होटल पर हमले के दौरान श्रीलंका के कट्टरपंथी मौलवी हाशिम मारे गए।

राष्ट्रपित सिरिसेन ने सीरियल ब्लास्ट के बारे में बताते हुए कहा कि सुरक्षा एजेंसियां ISIS के 140 संदिग्ध आतंकियों की तलाश में हैं। गौरतलब है कि ईस्टर संडे के दौरान चर्च और होटल में हुए सीरियल ब्लास्ट से अब तक 253 लोगों की मौत पुष्टि सरकार ने की है।

बता दें कि इससे पहले खबर थी कि इन हमलों में कुल 359 लोग मारे गए। लेकिन ये आंकड़े गलत थे। श्रीलंका के अधिकारियों ने इस बात पुष्टि की है कि मरने वालों की संख्या 253 है। यह संख्या पिछले आंकड़े से करीब 100 कम है। श्रीलंका के डिप्टी डिफेंस मिनिस्टर रूवान विजवर्दिन ने मुर्दाघर से मिले डाटा को गलत बताया है।

मरने वालों में विदेशी लोग भी शामिल

श्रीलंका में हुए इन हमलों में ज्यादातर पीड़ित श्रीलंका के लोग ही थे। हालांकि अधिकारियों ने बताया है कि इन धमाकों में लगभग 38 विदेशियों की भी मौत हुई है। मृतकों में भारतीयों की संख्या 11 है। इसके अलावा अमेरिकी, ब्रिटिश, तुर्की, ऑस्ट्रेलियाई, डच,चीनी,  और पुर्तगाली नागरिक भी शामिल थे। इसमें लगभग 500 लोग घायल हुए हैं। श्रीलंका में अब भी खतरा टला नहीं है। इस वजह से ब्रिटेन ने गुरुवार को अपने नागरिकों को इस देश की यात्रा न करने की चेतावनी जारी कर दी है।

Tag In

#lepannga news #lepannga news hindi #lepannga_Breaking news #shilanka gov india govrment shilanka

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *