सुकून से ना सोने देने पर न्यूयॉर्क के एक व्यक्ति ने कंपनियों के साथ किया यह बड़ा काम, भुगतना पड़ा लाखों का हर्ज़ाना

न्यूज़ गैलरी,

ले पंगा न्यूज़, मोनिका सोनी। इंसान की नींद इंसान की थकान को दूर रखने के लिए ज़रूरी होती है लेकिन क्या हो अगर यह नींद भी आप इस भीड़ भरी दुनिया में सुकून से ना ले पाएं।  ऐसा ही एक मामला सामने आया है न्यूयोर्क में रहने वाले एक शख्स का जिसने सुकून से न सोने देने पर कम्पनयों के खिलाफ कोर्ट केस कर दिया और जीत कर मुआवज़े में भारी रकम पायी।

ख़बरों के मुताबिक, न्यूयॉर्क के रहने वाले एक शख्स माइक एडिसन की प्रतिदिन शोर के कारण नींद खुल जाती थी। नींद के खुल जाने की वजह से वो अपने रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में सुकून से काम नहीं कर पाते थे। सुबह-सुबह शोर के कारण नींद खुल जाने की वजह से माइक एडिसन ने आस पास के ज़िम्मेदार नागरिकों से भी इस विषय पर चर्चा करी शहर के ज़रूरी नंबर पर फ़ोन भी किया साथ ही कई कम्पनियों को इस विषय पर लेटर भी लिखा मग़र कोई फायदा नहीं हुआ। जब किसी भी तरह की कोई सुनवाई नहीं हुई तो एडिसन ने अकेले ही इस शोर के खिलाफ मोर्चा खोलने का फैसला लिया और किसी भी तरह की कानूनी प्रशिक्षण न होने के बाद भी उन्होंने एक कंस्ट्रक्शन कंपनी, रियल एस्टेट डेवलपर और रीट एड ड्रगस्टोर चेन पर मुकदमा दायर किया और वह कामयाब रहे।


एडिसन ने मुकदमे में दावा किया कि ये कंपनियां अपने कर्मचारियों द्वारा शोर करने से रोकने पर असफल रहे हैं जिसका हर्ज़ाना इन कंपनी को भुगतना पड़ेगा। इसके बाद केवल शोर ही कम नहीं हुआ बल्कि समझौते के तौर पर हजारों डॉलर का भुगतान भी कंपनी द्वारा माइक एडिसन को किया गया।

एक सर्वे के हिसाब से, शहर के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल न्यूयॉर्क में 311 ध्वनि प्रदूषण की शिकायतें दर्ज की गई है। वहीं साल 2014 में ये शिकायतें 338000 से 29 प्रतिशत बढकर लगभग 438000 हो गई हैं।

Tag In

#Companies #Employees #Man's #New_York #न्यूयॉर्क #प्रदूषण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *