S Sreesanth

स्पॉट फिक्सिंग मामले में श्रीसंत को सुप्रीम कोर्ट ने दी राहत, हटाया आजीवन प्रतिबंध

स्पोर्ट्स,

ले पंगा न्यूज डेस्क अशोक योगी। सुप्रीम कोर्ट ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेटर एस श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध हटाकर बड़ी राहत दी है। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि श्रीसंत का यह कहना गलत है कि बीसीसीआई को उसे सजा देने का अधिकार नहीं है। बीसीसीआई को खिलाडियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अधिकार है, लेकिन श्रीसंत को दी गई सजा अधिक है। जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच ने बीसीसीआई से कहा कि वह श्रीसंत को दी गई सजा के बारे में तीन महीने के अंदर ही जल्द फैसला करें।

मेरी ट्रेनिंग जारी है मैं भी खेल सकता हुं

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद श्रीसंत ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मैं फिर से मैदान में उतरने को तैयार हुं। मैं लिएंडर पेस को आदर्श मानता हूं। जब वो 45 साल की उम्र में ग्रैंडस्लैम खेल सकते हैं, नेहरा 38 साल की उम्र में वर्ल्डकप खेल सकते हैं तो मैं क्यों नहीं मैं तो केवल 36 साल का हूं, मेरी ट्रेनिंग जारी है। इतने लंबे समय बाद मैदान में वापसी करने आसान नहीं होगा, लेकिन उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को मैदान पर चोट लगती है और वो दो तीन साल तक खेल से दूर रहते हैं। मैं भी ऐसी ही मानूंगा कि मुझे भी बड़ी चोट लगी थी और जिससे उबर कर मैं वापसी कर रहा हूं।

श्रीसंत के लिए भारतीय टीम में जगह बनाना मुश्किल

श्रीसंत ने टीम इंडिया के लिए 27 टेस्ट मैच, 53 वनडे और 10 टी20 मैच खेले हैं, श्रीसंत ने आखिरी बार अगस्त 2011 में टीम इंडिया के लिए अंतरराष्ट्रीय मैच टेस्‍ट के रूप में अगस्‍त 2011 में इंग्‍लैंड के खिलाफ ओवल में खेला था। श्रीसंत 2007 में टी20 वर्ल्‍डकप और 2011 में वर्ल्‍डकप जीती भारतीय टीम के सदस्‍य रह चुके हैं। इन दिनों भारतीय टीम वर्ल्‍डकप के लिए खिलाडियों चयन कर रही है। इसलिए श्रीसंत का भारतीय में जगह बनाना मुश्किल हो गया है।  

Tag In

#ashok bhushan #spot fixing case #sreesanth #supreme court BCCI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *