sam pitroda

1984 सिख दंगे  पर ‘हुआ तो हुआ’ विवादित बयान देकर फंसे सैम पित्रोदा, बीजेपी पर लगाया तीन शब्द निकालने का आरोप

लोकसभा 2019,

ले पंगा न्यूज डेस्क, अशोक योगी। गुरुवार को 1984 सिख दंगे को लेकर पीएम मोदी के भाषण में कांग्रेस को घेरे जाने के बाद प्रतिक्रिया में ‘हुआ तो हुआ’ कह कर घिरे इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा शुक्रवार सुबह बैकफुट पर जाते दिखे हैं। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि उनके साक्षात्कार में से ‘तीन शब्द’ निकाल कर गलत तरीके से पेश कर दिया गया।

गौरतलब है कि इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने गुरुवार को सिख दंगे से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए एक विवादित बयान दिया था। उन्होंने गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस पर सिख दंगे को लेकर निशाना साधने के बाद प्रधानमंत्री की आलोचना की। इस दौरान एक सवाल के जवाब में पीएम पर टिप्पणी करते हुए पित्रोदा ने कहा- अब क्या है 84 का? आपने क्या किया पांच साल में उसकी बात करिए। 84 में जो हुआ वो हुआ, आपने क्या किया।

शुक्रवार की सुबह सैम पित्रोदा एक के बाद एक ट्वीट कर अपने बयान का बचाव किया। कहा कि मैं सिख भाइयों-बहनों का दर्द समझता हूं। मैं समझता हूं कि 1984 में उन्हें बहुत दर्द झेलना पड़ा। उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा मेरे तीन शब्द को गलत तरीके से पेश कर वास्तविकता से दूर भाग रही है और हमें बांटकर अपनी नाकामियां छिपा रही है। दुखद है कि उनके पास बताने को कुछ भी सकारात्मक नहीं है।

उन्होंने आगे कहा कि राजीव गांधी और राहुल गांधी ने कभी भी किसी जाति-पंथ के आधार पर लोगों को बांटकर टारगेट नहीं किया है। ऐसा करना भाजपा के नेताओं की आदत रही है, क्योंकि वह अपनी परफॉर्मेंस पर, देश को आगे ले जाने के लिए अपने विजन पर बात ही नहीं कर सकते। उनके पास बेरोजगारी दूर करने को लेकर कोई विजन ही नहीं है।

Tag In

# BJP #1984 #congress 2019 #deeply #pain #PMMODI #pmnarendramodi #rajiv gandhi #sampitroda #sikh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *